न्यूज़

नशा मुक्ति व मोबाइल लाइब्रेरी अभियान को हर संभव मदद का आश्वासन

जिलाधिकारी नितिन भदौरिया ने शिक्षक कल्याण मनकोटी के प्रयासों की सराहना की

Report ring desk

अल्मोड़ा। नशा मुक्ति केंद्र का एक वर्ष पूरा होने पर जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित शिक्षक कल्याण मनकोटी के प्रयासों की सराहना की। जिलाधिकारी ने नशा मुक्ति व मोबाइल लाइब्रेरी के इस अभियान को व्यापकता से पूरे जनपद में लागू करने और इस अभियान को सफल बनाने के लिए हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया है साथ ही शिक्षक मनकोटी को नशा मुक्त अभियान के लिए विकास खण्ड भैसियाछाना का नोडल ऑफिसर नामित किया गया है। बेहतरीन ऑनलाइन शिक्षण के लिए मुख्य शिक्षा अधिकारी द्वारा शिक्षक मनकोटी को प्रशस्ति पत्र भी दिया गया।

लॉकडाउन काल में शिक्षक मनकोटी ऑनलाइन शिक्षण व बच्चों के लिए ऑफ लाइन वर्क शीट तैयार कर छात्रों के लिए मोबाइल लाइब्रेरी का संचालन कर रहे हैं जिसका नारा दिया गया है- ‘खुद पढ़ें और पढ़ाएं, पढ़ी पुस्तक आगे बढ़ाएं। इस मोबाइल लाइब्रेरी में बच्चों को बाल साहित्य, कहानी की किताबें, हिंदी व अंग्रेजी का बेहतरीन साहित्य उपलब्ध कराया जा रहा है।

शिक्षक मनकोटी का मानना है कि किताबें ही जीवन को ऊंचाई तक ले जाने का बेहतरीन माध्यम हैं। किताबों से ही बच्चों व युवाओं में सकारात्मकता का संचार किया जा सकता है। इसी उद्देश्य से मोबाइल लाइब्रेरी का विचार आया।

इसके साथ ही सचल पुस्तकालय से जुड़े युवाओं, एसएमसी के सदस्यों व बच्चों को नशा मुक्ति अभियान से जोड़कर ‘नशा मुक्त समाज’ बनाने का अभियान भी चलाया जा रहा हैं जिसका नाम ‘हम सब का यही अभियान, हर चेहरे पर हो मुस्कान।’ रखा गया है। समाज के लोगों द्वारा भी शिक्षक मनकोटी के इस अभियान की बहुत सराहना की जा रही है।

शिक्षक मनकोटी द्वारा सामाजिक संस्थाओं व वालंटियर्स के साथ मिलकर कोविड-19 से बचने के लिए लोगों व बच्चों को मास्क, सैनीटाइजर, कापी- किताबें, स्कूल बैग तो वितरित किए ही जा रहे हैं साथ ही लॉकडाउन से प्रभावित अशक्त, नि:शक्त, विशिष्ट आवश्यकता, वृद्ध, दिव्यांग, बीमार, असहाय, विधवा एवं ऐसे परिवारों को भी भोजन व अन्य जरूरी चीजें मुहैया कराई जा रही हैं जिनका लॉकडाउन के दौरान रोजगार छिन गया था या फिर उनके आमदनी के स्रोत बंद हो गए थे। उन्होंने भैंसियाछाना विकास खण्ड के चनोली, कुमौली, सेला, लम्बू उद्दियार गॉवों में ऐसे जरुरतमन्द व्यक्तियों तक राहत सामाग्री पहुॅचाने का कार्य किया।



Leave a Reply

Your email address will not be published.