देश दुनिया न्यूज़

OMG: मज़ाक बना बायकॉट, मार्केट में Chinese Phones का दबदबा, पढ़िए रिपोर्ट

इंडियन मार्केट में तीसरी तिमाही में बिके 5 करोड़ 43 लाख से अधिक फ़ोन। इस दौरान बाज़ार में चीनी कंपनियों का दबदबा कायम रहा। चीनी कंपनी श्याओ मी ने बेचे 1 करोड़ 35 लाख मोबाइल, वहीं ओप्पो, वीवो भी नहीं रहे ज्यादा पीछे।

Report Ring News

हाल के महीनों में हुए चीन-भारत सीमा विवाद के बाद इंडिया में एक तरह से चीन विरोधी लहर चल गयी थी। राजनीतिक दल और लोग इधर-उधर चीनी उत्पादों का बहिष्कार करने के लिए सड़कों पर उतर आए थे। यहां तक कि टीवी चैनलों और अखबारों ने भी इस तरह का अभियान चलाया। बावजूद इसके चीनी उत्पादों विशेषकर मोबाइल फ़ोन का इंडिया में कोई और विकल्प फिलहाल तो नज़र नहीं आ रहा है। चीनी फ़ोन इंडियन मार्केट में धड़ाधड़ बिक रहे हैं। यकीन न आए तो ज़रा इन आंकड़ों पर गौर कीजिए।

इंटरनेशनल डेटा कॉरपोरेशन (आईडीसी) द्वारा 6 नवंबर को जारी ताज़ा आंकड़े इसकी तस्दीक करते हैं। आंकड़ों की मानें तो तीसरी तिमाही में इंडियन स्मार्ट फोन बाजार ने शानदार प्रदर्शन किया। इस दौरान कुल 5 करोड़ 43 लाख स्मार्ट फोन भारतीय लोगों ने खरीदे। पिछले साल के के मुकाबले इसमें 17 फीसदी का इजाफा देखा गया है।

सबसे चौंकाने वाली बात तो यह है कि इस अवधि में चीनी फ़ोन पूरी तरह छाए रहे। हालांकि यह बात और कि चीन के साथ सीमा विवाद की वजह से इंडिया में चाइनीज़ प्रॉडक्ट्स के बहिष्कार का खूब हल्ला मचा। लेकिन इसका आम उपभोक्ताओं पर कुछ खास असर नहीं पड़ा है। हो सकता है कि अन्य सेक्टर्स में चीनी उत्पादों की डिमांड घटी हो, लेकिन मोबाइल फ़ोनों के मामले में भारतीयों की पसंद अभी भी चीनी फ़ोन ही हैं।

आंकड़ों के अनुसार तीसरी तिमाही में भारतीय बाजार में श्याओमी ने 1 करोड़ 35 लाख स्मार्टफ़ोन बेचे। जो कि इस अवधि में सभी कंपनियों में से सबसे शानदार प्रदर्शन रहा। बताया जाता है कि श्याओमी की सेल में पिछले वर्ष की तुलना में 7 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गयी। इसके बाद नंबर है कोरियाई कंपनी सैमसंग का, वह दूसरे स्थान पर जगह बनाने में कामयाब रही। सैमसंग ने लगभग 1 करोड़ 21 लाख फ़ोने बेचे, जो पिछले साल से 38 प्रतिशत ज्यादा है।

इसके बाद ऩंबर आता है अन्य चीनी कंपनियों का। जिनमें शामिल हैं, वीवो ,रियलमी और ओप्पो। जहां वीवो ने 90 लाख फ़ोन बेचे, वहीं रीलमी ने 80 लाख और ओप्पो के 61 लाख फोन यूज़र्स ने खरीदे। ये सभी कंपनियां भारतीय मार्केट में टॉप पांच स्थानों पर काबिज़ होने में सफल रही हैं।

आईडीसी का अनुमान है कि चौथी तिमाही में भी भारतीय स्मार्टफोन बाजार में वृद्धि जारी रहेगी।



Leave a Reply

Your email address will not be published.