Akhilesh

Women Reservation Bill: नारी शक्ति वंदन अधिनियम पर किन बड़े नेताओं का रहा क्या रिएक्शन

News Reoprt Ring

New Delhi नारी शक्ति वंदन अधिनियम पर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए लिखा है कि बीजेपी ने ‘महाझूठ’ से अपनी पारी की शुरुआत की है। उन्होने बीजेपी पर झूठ बोलने का आरोप लगाया।

सपा अध्यक्ष ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए लिखा है कि “परिसीमन के बिना महिला आरक्षण बिल लागू हो ही नहीं सकता, जिसमें कई साल लग जाएँगे, तो भाजपा सरकार को इस आपाधापी में महिलाओं से झूठ बोलने की क्या ज़रूरत थी। भाजपा सरकार न जनगणना के पक्ष में है न जातिगत गणना के, इनके बिना तो महिला आरक्षण संभव ही नहीं है।”
अखिलेश य़ादव ने इस बिल को आधा-अधूरा बताते हुए लिखा है कि ये बिल महिला आरक्षण’ जैसे गंभीर विषय का उपहास है।
https://l1nk.dev/93fdE

महिला आरक्षण विधेयक पर बसपा प्रमुख ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि सरकार को इस विधेयक में से 2 प्रावधान हटाने चाहिए और ऐसा प्रावधान लाना चाहिए कि आरक्षण जल्द लागू हो जाए। उन्होने कहा कि परिसीमन और जनगणना में कई साल लग जाएंगे और आरक्षण जल्द लागू नहीं हो पाएगा। इसके अलावा बसपा सुप्रिमो ने पिछड़े वर्ग की महिलाओं को अलग से आरक्षण देने की मांग की है।

mayawati

इससे पहले बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने महिला आरक्षण विधेयक पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मांग करते हुए कहा था कि महिलाओं की आबादी को ध्यान में रखते हुए यदि आरक्षण का प्रतिशत 33 से बढ़ाकर 50 प्रतिशत कर दिया जाता है तो यह आधी आबादी के हक में रहेगा और हमारी पार्टी इसका जोर-शोर से स्वागत करेगी।
आपको बताते चलें कि महिला आरक्षण विधेयक में महिलाओं को लोकसभा व राज्य की विधानसभाओं में 33 प्रतिशत आरक्षण देने की बात कही गयी है। हालांकि बसपा सुप्रीमो ने ये भी कहा है कि अगर केंद्र उनकी मांगें नहीं मानता है तो भी उनकी पार्टी सदन में विधेयक का समर्थन करेगी। उन्होने उम्मीद जताई है कि इस बार महिला आरक्षण विधेयक जरूर पास हो जाएगा।

Sonia

कांग्रेस पार्टी की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नई संसद में पहली बार भाषण देते हुए महिला आरक्षण बिल पर समर्थन देने की बात कही है। उन्होने कहा है कि कांग्रेस की ओर से मैं ‘नारी शक्ति वंदन अधिनियम 2023’ के समर्थन में खड़ी हूं। उन्होने महिलाओं के धीरज की तुलना समंदर से करते हुए कहा कि महिलाओं में समंदर की तरह धैर्य होता है। सोनिया गांधी ने बिल को तुरंत अमल में ले आने की बात कहते हुए बोला कि अगर ये बिल तुरंत अमल में नहीं लाया जाता है तो ये महिलाओ के साथ अन्याय होगा।

अपना दल की नेता और केन्द्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने बिल का समर्थन करते हुए सरकार की सराहना की है। उन्होने कहा कि नए संसद भवन में संसद सत्र के पहले ही दिन महिलाओं के बारे में सोचा गया जो कि सरकार का बहुत ही सराहनीय कदम है।

Follow us on Google News

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top