न्यूज़

खटीमा की सड़कों पर गरजे कांग्रेसी

  • किसानों को साथ लेकर निकाली ट्रैक्टर रैली
  • केंद्र सरकार की ओर से पारित अध्यादेश को बताया किसान विरोधी
  • राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजकर अध्यादेश को निरस्त करने की मांग की

By Naveen Joshi

खटीमा। केंद्र सरकार की ओर से पारित अध्यादेश को किसान विरोधी बताते हुए कांग्रेस कार्यकर्ता गुरुवार को शहर की सड़कों पर सरकार के खिलाफ गरजे। उन्होंने किसानों को साथ लेकर नगर में विशाल ट्रैक्टर रैली निकाली। रैली में सैकड़ों की संख्या में शामिल कांग्रेसियों एवं किसानों ने इस अध्यादेश को निरस्त करने की मांग की और इस बाबत राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन एसडीएम को सौंपा।

कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री भुवन कापड़ी के नेतृत्व में नगर एवं ब्लाॅक के कार्यकर्ता किसानों को साथ लेकर पीलीभीत रोड स्थित मंडी पहुंचे। यहां से उन्होंने विशाल ट्रैक्टर रैली निकाली, जो मेन चौराहा होते हुए तहसील पहुंची। इस दौरान कांग्रेसियों और किसानों ने केंद्र सरकार की ओर से पारित अध्यादेश को किसान विरोधी बताया। इसके बाद तहसील में पहुंचकर उन्होंने राष्ट्रपति के नाम संबोधित ज्ञापन एसडीएम निर्मला बिष्ट को सौंपा। ज्ञापन में कहा गया है कि केंद्र सरकार की ओर से पिछले दिनों पारित अध्यादेश का पूरे भारत में किसान विरोध कर रहे हैं।

आरोप लगाया कि केंद्र की भाजपा सरकार किसानों के विरोध को दरकिनार कर आंदोलन को कुचलने में लगी है। नतीजतन विभिन्न राज्यों में किसानों के आंदोलन पर आंसुगैस और लाठीचार्ज किए जा रहे है। इस बिल से किसानों का हित और मंडी समाप्त हो जाएगी, जबकि पूंजीपतियों को बढ़ावा मिलेगा, जिसके पास पैसा होगा वह अनाज को डंप कर लेगा और बाद में उसे ऊंचे दामों पर बेचेगा, इससे देश में महंगाई चरमसीमा पर पहुंच जाएगी। गरीब व्यक्ति का जीवनयापन करना मुश्किल हो जाएगा। उन्होंने राष्ट्रपति से इस बिल को निरस्त करने की मांग की।

इस दौरान कांग्रेस ब्लाॅक अध्यक्ष बाॅबी राठौर, कार्यकारी नगराध्यक्ष रवीश भटनागर, नगराध्यक्ष देवेंद्र जुनेजा, ब्लाॅक प्रमुख रंजीत सिंह नामधारी, राशिद अंसारी, राजू सोनकर, रमेश रौतेला, संतोष गौरव, नासिर खान, जसविंदर उर्फ पप्पू, दान सिंह राणा, सरदार साधू सिंह, देवेंद्र कन्याल, देवेंद्र सिंह राणा, दलजीत सिंह गौरैया, प्रवीण बिष्ट, रमेश जोशी, रेखा सोनकर, लीला चंद आदि मौजूद थे।



Leave a Reply

Your email address will not be published.