अपनी बात न्यूज़

जानिए क्यों मनाया जाता है गुड फ्राइडे

By Aashish pandey

ईसाई धर्म में गुड फ्राइडे (Good Friday)का एक विशेष महत्व है। गुड फ्राइडे ईसाई धर्म के सबसे प्रमुख त्योहारों में एक माना जाता है। गुड फ्राइडे को होली फ्राइडे के नाम से भी जाना जाता है। वहीं बहुत से लोग इसे ग्रेट फ्राइडे के नाम से भी जानते हैं। गुड फ्राइडे को अलग.अलग देशों में अलग.अलग नामों से जाना जाता है।

गुड फ्राइडे क्या है

ईसाई धर्म की मान्यताओं के अनुसार बताया जाता है कि इस दिन गुरु ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था। सूली पर चढ़ाने के तीन दिन बाद ही वो ज़िंदा हो गए थे। जिसके बाद ईस्टर संडे मनाया जाने लगा। गुड फ्राइडे को ईसाई धर्म के लोग शोक दिवस के रूप में भी मनाते हैं। जब इस दिन ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया तो इसे गुड फ्राइडे क्यों कहते हैं। लोगों के मन में ये सवाल अक्सर बना रहता है। इसके पीछे का कारण बताया जाता है कि ईसा मसीह ने लोगों की भलाई के लिए अपनी जान दी थी। इसलिए इस दिन को गुड कहकर संबोधित किया जाता है। साथ ही इस दिन शुक्रवार था इसलिए इसे गुड फ्राइडे कहा जाता है। इस दिन को उनकी कुर्बानी दिवस के रूप में भी मनाते हैं।

सत्य और अहिंसा के संदेश देते थे ईसा मसीह

लगभग 2000 साल पहले यरूशलम के गौलिली प्रांत में ईसा लोगों को मानवता, सत्य, एकता, अहिंसा और शांति का उपदेश अपने अनुयायियों को दे रहे थे। इससे वहां के लोगों ने उनको परमपिता परमेश्वर का दर्जा देने लग गए थे। उनके संदेश दूर.दूर तक फैलने लगे और उनके विचारों को अपने जीवन में अपनाने लगे। इससे समाज में धार्मिक अंधविश्वास व झूठ फैलाने वाले धर्मगुरुओं को उनसे काफी जलन होने लगी क्योंकि लोग अपनी समस्याओं को लेकर उनके पास नहीं जा रहे थे। तभी सभी धर्मगुरु एक साथ मिले और ईसा को मानवता का सबसे बड़ा शत्रु बताना शूरू कर दिया।

ईसा मसीह की लगातर बढ़ती लोकप्रियता को देखकर सभी धर्मगुरुओं को अखरने लगी तो उन्होंने रोम के शासक पिलातुस के कान भरना शुरू कर दिया। उन्होंने शासक को बताया कि ईसा खुद को ईश्वर का पुत्र बताता है और लोगों को ईश्वर राज की बातें बताता है। शिकायत मिलने पर शासक ने ईसा पर धर्म की अवमानना और राजद्रोह का आरोप लगा दिया और ईसा को सूली क्रूस पर मृत्यु दंड देने का फरमान जारी कर दिया।

शासक द्वारा फरमान जारी होने के बाद ईसा पर कोड़े.चाबुक बरसाए गए और उनको कांटों का ताज पहनाया गया। ईसा को सूली को कंधों पर उठाकर ले जाने के लिए विवश किया और दो अन्य अपराधियों के साथ बेरहमी से कीलों संग ठोकते हुए सूली पर लटका दिया। बाइबल के अनुसार जिस जगह पर ईसा को सूली पर चढ़ाया गया था उसका नाम गोलगोथा है।

क्या होता है इस दिन

गुड फ्राइडे के दिन ईसाई समाज के लोग गिरजाघर जाकर प्रभु यीशु को याद करते हैं। चर्च में घंटा नहीं बजाया जाताए बल्कि उसके एवज में लकडी के खटखटे से आवाज की जाती है। लोग भगवान ईसा मसीह के प्रतीक क्रास को चूमकर उन्हें याद करते हैं। गुड फ्राइडे के दौरान पूरी दुनिया में ईसाई चर्च में सामाजिक कार्यों को बढ़ाना देने के लिए दान एकत्र किया जाता है। इसे मानव कल्याण में भी लगाया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *