यूथ रोचक

दो फौजी दोस्तों ने उत्तराखंड की हॉकी में भर दी जान

By Jay Prakash Pandey 

हल्द्वानी। हल्द्वानी के दो फौजी दोस्तों ने उत्तराखंड की हॉकी (Uttrakhand Hockey) में जान फूंक दी। इनमें से एक सीआरपीएफ तो दूसरा बीएसएफ से रिटायर है। रिटायर्मेंट के बाद दोनों ने कुछ अलग करने की सोची। हॉकी के महान खिलाड़ी मन्नू दादा (Mannu Dada) के नाम पर हल्द्वानी में मन्नू दादा हॉकी एकेडमी की शुरुआत की। अभी उनसे करीब 40 बच्चे हॉकी के गुर सीख रहे हैं।

दो फौजी दोस्त : जगत सिंह नेगी (बाए से) किशोर सिंह बाफिला (दाए से) ।

नीलियम कालोनी निवासी किशोर सिंह बाफिला सीआरपीएफ में असिस्टेंट कामंडेंट थे, साथ में हॉकी कोच भी। उनके साथी छड़ायल रोड निवासी जगत सिंह नेगी बीएसएफ में थे। वह बीएसएफ में एथलीट थे। इनकी दोस्ती की बुनियाद में स्पोर्ट्स रहा और स्प्रिट खिलाड़ी की। बचपन में दोनों खेलने के लिए हल्द्वानी स्टेडियम जाते थे, वहीं मुलाकात हुई। भर्ती होने के बाद छुट्टियों में स्टेडियम में ही मिलना जुलना होता था। रिटायर्मेंट के बाद सन 2018 में बिड़ला स्कूल के पास हॉकी के लिए ग्राउंड बनाया । शुरुआत में वे खुद ही प्रैक्टिस करते थे। स्टेडियम में हॉकी खेलने वाले बच्चों को उनकी एकेडमी का पता चला तो कुछ खेल में सुधार के लिए उनके पास आने लगे। अब मन्नू दादा हॉकी एकेडमी में खिलाड़ियों की अच्छी खासी संख्या है। इस एकेडमी के सात खिलाड़ी नेशनल खेल चुके हैं।

हॉकी कोच किशोर सिंह बाफिला कहते हैं कि हॉकी नेशनल गेम होने के बावजूद खिलाड़ियों को सुविधाएं नहीं मिल पाती हैं। अच्छे खिलाड़ियों को तैयार करने के लिए एकेडमी की शुरुआत की। कोविड के दौर में खेलों में चुनौती बढ़ी है। लॉकडाउन में जब खेल गतिविधि बंद थी, वह सुबह के समय साथी जगत के साथ प्रेक्टिस करते थे। आगे कोशिश है कि राज्य में हॉकी को अच्छी दिशा मिल सके।

जगत सिंह नेगी बताते हैं, वह बाफिला जी को बचपन से जानते हैं। वह राज्य में हॉकी को बढ़ावा देने के लिए जुटे हैं। हॉकी के प्रति उनके समर्पण को देखकर वह भी इस मिशन में शामिल हो गए।

एकेडमी के विकास उत्तराखंड टीम के कैप्टन
विकास पंत एनआईएस से कोच की ट्रेनिंग ले चुके हैं। अभी उत्तराखंड की हॉकी टीम के कैप्टन भी हैं। उन्होंने 2008 से हॉकी खेलना शुरू किया। वर्तमान में वह अमन्नू दादा हॉकी एकेडमी में बच्चों को हॉकी भी सिखा रहे हैं। विकास बताते हैं कि क्रिकेट की तुलना में हॉकी खेलने के लिए ज्यादा खर्च की जरूरत नहीं होती है। खेलने के लिए हॉकी स्टिक, बॉल, पैड बेसिक है।

चार -पांच को लींग मैंच
मन्नू दादा हॉकी एकेडमी चार व पांच दिसंबर को उत्तराखंड स्तरीय टूर्नामेंट आयोजित कर रही है। इसमें प्रदेशभर 60 खिलाड़ी भाग ले रहे हैं, इसमें से 40 नेशलन प्लेयर हैं। टूर्नामेंट में 12 लीग मैच है।

ये खेल चुके हैं नेशनल
मन्नू दादा एकेडमी के विकास पंत, निलेश गुप्ता, हेमा, गीता, सीजल, कीर्ति, शिवानी नेशनल खेल चुके हैं।



Leave a Reply

Your email address will not be published.