न्यूज़

किसानों पर आफत बनकर गिरी बारिश

  • धान के साथ ही गन्ने की फसल को भी हुआ भारी नुकसान
  • किसान नेताओं ने सरकार से की मुआवजा देने की मांग

By Naveen Joshi

खटीमा। अतिवृष्टि की मार झेल चुके क्षेत्र के किसानों पर मंगलवार रात हुई मूसलाधार बारिश आफत बनकर गिरी है। आधी रात में हुई बारिश ने किसानों की धान और गन्ने की फसल को पूरी तरह तबाह कर दिया है। फसल देखकर अन्नदाता पूरी तरह बेहाल है। वहीं, किसान नेताओं ने सरकार से किसानों के फसली कर्ज को माफ करने के साथ ही मुआवजा देने की भी मांग की है।
बादलों की लुकाछिपी के बीच मंगलवार रात क्षेत्र में मूसलाधार बारिश हुई है।

इससे उत्तर प्रदेश की सीमा से सटे दाह ढाकी, पुरनापुर, प्रतापपुर, नगरा तराई, खेलडिया, भगचुरी, नौसर के अलावा चकरपुर और चारूबेटा क्षेत्र में भी किसानों की फसलों को काफी नुकसान हुआ है। अधिकतर स्थानों पर धान की पकी फसल पूरी तरह जमीन पर लेट गई है, जबकि कहीं-कहीं धान की फसल के ऊपर से पानी बह रहा है।

गन्ना भी बुरी तरह गिर गया है। चूंकि धान की फसल अब पक चुकी थी और किसान इसे काटने की तैयारी में था। इसी बीच मंगलवार रात की बारिश किसान पर आफत बनकर टूट पड़ी। किसान नेता प्रकाश तिवारी और मनविंदर सिंह खैरा ने सरकार से किसानों का फसली कर्ज माफ करने के साथ ही मुआवजा देने की भी मांग की है। उन्होंने कहा कि पहले अतिवृष्टि ने रवि की फसल बर्बाद की और अब धान एवं गन्ने पर कुदरत की मार पड़ गई है।



Leave a Reply

Your email address will not be published.