न्यूज़

अफसरों ने उठाया डंडा, बेवजह घूमने वालों को खदेड़ा

लाॅकडाउन के दूसरे दिन प्रशासन ने दिखाई सख्ती
एसडीएम ने दिए मुकदमा दर्ज करने के निर्देश

By Naveen Joshi 

खटीमा। क्षेत्र में जारी लाॅकडाउन के दूसरे दिन प्रशासनिक अधिकारियों ने बेहद सख्ती दिखाई। सीओ और तहसीलदार खुद ही डंडा लेकर सड़क पर खड़े रहे। उनके साथ एसडीएम भी मौजूद थीं। उन्होंने बेवजह घूमने वालों को खदेड़ा। कई लोगों के चालान काटे और वाहन भी सीज किए। 
बता दें कि पूरे प्रदेश में इस बार सिर्फ खटीमा तहसील क्षेत्र में ही दो दिन का लाॅकडाउन किया गया है। इसका स्थानीय प्रशासन ने सख्ती से पालन करवाया। दूसरे दिन प्रशासनिक अधिकारी सुबह से ही अलर्ट मोड पर आ गए थे। उन्होंने लाउडस्पीकर से मुनादी कराकर बाजार को पूरी तरह बंद कराया। साथ ही लोगों से बेवजह नहीं घूमने की अपील की। इस दौरान शराब की दुकानों को छोड़कर बाकी सभी दुकानें बंद रहीं।

वहीं, बारिश होने के बावजूद एसडीएम निर्मला बिष्ट, सीओ महेश बिंजौला, तहसीलदार यूसुफ अली हाथों में लाठी लेकर सड़क पर खड़े रहे। उन्होंने बेवजह घूम रहे लोगों को खदेड़ा। एसडीएम ने बिना मास्क और बेवजह घूम रहे लोगों पर मुकदमा दर्ज करने के निर्देश दिए। 
इस बीच बाजार चौकी इंचार्ज अनिल चौहान ने बिना मास्क और बेवजह घूम रहे 56 लोगों के चालान काटे और आठ हजार रुपये का जुर्माना वसूला। एमवी एक्ट के तहत दो वाहन सीज भी किए। इस दौरान ट्रैफिक पुलिस के नारायण दत्त जोशी आदि मौजूद थे। एसएसआई देवेंद्र गौरव भी दलबल के साथ सड़क पर खड़े रहे। उन्होंने छोटे वाहनों के साथ बड़े वाहनों की भी चेकिंग की।

कंटेनमेंट जोनों में हो रही लापरवाही

खटीमा। जहां एक तरफ लाॅकडाउन का प्रशासन सख्ती से पालन करवा रहा है, वहीं दूसरी ओर कंटेनमेंट जोनों में जमकर लापरवाही हो रही है। कहीं पर तो पुलिस की तैनाती नहीं है। लोग बैरिकेडिंग हटाकर बाहर आवाजाही कर रहे हैं। वार्ड नंबर 17, शिव काॅलोनी में 7 अगस्त को एक युवती कोरोना संक्रमित मिली थी, जिसके बाद यहां कंटेनमेंट जोन बनाया गया, लेकिन यहां के लोग बैरिकेट की बल्लियां हटाकर वाहनों से आवाजाही कर रहे हैं, जिससे अन्य लोगों में भी संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया है



Leave a Reply

Your email address will not be published.