न्यूज़

दहेज की खातिर चाचा के साथ मिलकर की पत्नी की हत्या

  • चाचा के साथ मिलकर दिया घटना को अंजाम, एएसपी ने किया खुलासा
  • आरोपी पति और उसके चाचा को गिरफ्तार कर जेल भेजा

By Naveen Joshi 

खटीमा। दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर ग्राम बानूसी निवासी नीरज कुमार ने अपनी पत्नी की गला रेतकर हत्या कर दी। उसने अपने चाचा के साथ बग्घा-54 के जंगल में घटना को अंजाम दिया। पुलिस ने चाचा-भतीजे को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ दहेज उत्पीड़न के साथ ही हत्या का मुकदमा भी दर्ज कर दिया है। बृहस्पतिवार को खटीमा कोतवाली पहुंचे एएसपी देवेंद्र पिंचा ने प्रेसवार्ता कर घटना का खुलासा किया।

बानूसी निवासी विवाहिता डिम्पल 24 अगस्त से लापता थी। उसकी मां गदरपुर निवासी पार्वती टम्टा ने 25 अगस्त को खटीमा कोतवाली में अपनी पुत्री की गुमशुदगी दर्ज कराई। कहा कि 24 अगस्त से उसकी पुत्री फोन नहीं उठा रही है। दामाद को फोन करने पर पता चला कि डिम्पल अपनी बेटी के लिए कपड़े लेने बाजार गई थी, लेकिन वापस नहीं लौटी है। उसने डिम्पल के पति, सास, ननद और चचेरे ससुर पर कम दहेज लाने के लिए उसकी बेटी को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया।

खटीमा पुलिस की गिरफ्त में चाचा-भतीजे।

इधर, गुमशुदगी दर्ज होने के बाद पुलिस ने डिम्पल की तलाश शुरू की तो गांव में लगे सीसी फुटेज में नीरज अपनी पत्नी डिम्पल को बाइक पर बैठाकर ले जाता हुआ दिखाई दिया। इस पर पुलिस ने नीरज और उसके चाचा विनोद राम निवासी बिरिया मझौला से पूछताछ की। सख्ती करने पर नीरज ने बताया कि 24 अगस्त को वह डिम्पल को पड़ोसी की बाइक से घुमाने के लिए बग्घा-54 के जंगल ले गया, जहां उन दोनों चाचा-भतीजे ने डिम्पल की चाकू से गला रेतकर हत्या कर दी और शव को झाड़ी में फेंक दिया। पुलिस ने दोनों की निशानदेही पर डिम्पल का शव, मोबाइल और चाकू बग्घा-54 के जंगल से बरामद किया। साथ ही धारा 304बी, 302, 201, 34 में रिपोर्ट दर्ज कर दोनों को जेल भेज दिया।

पांच भाई-बहनों में चौथे नंबर की थी डिम्पल
खटीमा। वार्ड नंबर तीन गदरपुर निवासी डिम्पल (29) पुत्री स्व.सुरेश टम्टा पांच भाई-बहनों में चौथे नंबर की थी। उसका एक भाई प्रमोद कुमार टम्टा है, जबकि सबसे छोटी बहन पूजा (25) की अभी शादी नहीं हुई है। 2017 में डिम्पल का विवाह ग्राम बानूसी निवासी नीरज कोहली के साथ हुआ था। उसकी 11 माह की एक पुत्री है।

आरोपियों को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम 
एसएसआई देवेंद्र गौरव, एसआई लक्ष्मण सिंह, अनिल कुमार, बबीता, कांस्टेबल नवीन रजवार, अरविंद डंगवा



Leave a Reply

Your email address will not be published.