न्यूज़

होम आइसोलेट संक्रमितों में भी ब्लैक फंगस का खतरा

Report ring desk

देहरादून। अब तक केवल अस्पतालों में भर्ती मरीजों में ही ब्लैक फंगस का संक्रमण हो रहा था। अब होम आइसोलेट लोग भी ब्लैक फंगस की चपेट में आ रहे हैं। ऐसे कई मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं।

प्रदेश में अब तक ब्लैक फंगस के 118 केस मिल चुके हैं। इनमें से 9 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। सबसे अधिक 83 संक्रमित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश में सामने आए हैं। हिमालयन अस्पताल जौलीग्रांट में 17 कोविड संक्रमितों में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई है। दोनों अस्पतालों में मरीज बाहर से रेफर होकर आए थे। इनमें से नौ संक्रमित होम आइसोलेशन में थे।

ब्लैक फंगस के लक्षण
तेज बुखार, नाक बंद होना, सिर दर्द, आंखों में दर्द, दृष्टि क्षमता क्षीण होना, आंखों के पास लालिमा होना, नाक से खून आना, नाक के भीतर कालापन आना, दांतों का ढीला होना, जबड़े में दिक्कत होना, छाती में दर्द होना आदि ब्लैक फंगस प्रमुख लक्षण हैं। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *