अपनी बात न्यूज़

Daugther’s Day: मेरी परी, पंख फैला भरना उड़ान

आज डॉटर्स डे यानी बेटियों का दिन है। बेटी के प्यार, समर्पण और त्याग को देखते हुए दुनिया में हर वर्ष डॉटर्स डे मनाया जाता है। यह दिवस हर साल सितंबर के चौथे रविवार को होता है। जो कि आज 26 सितंबर को है। इस मौके पर हमारी ओर से दुनिया भर की बेटियों को प्यार और सलाम।
बेटी दिवस पर एक विशेष कविता, जो कि लिखी है, चीन के शंघाई में रहने वाली लेखिका अनीता शर्मा ने।
देह का रोयाँ-रोयाँ   

भर जाता है
असीम आनंद से
तुझे छूते ही
मीठी बिजली की तरलता
दौड़ जाती है
समूची देह में

तेरा रुई के फाहे सा
नरम स्पर्श
कच्चे दूध सी
गुनगुनी गंध
एक अजब अहसास
जगाते हैं

तेरी जुगनुओं सी
जगती आँखें
नर्म-निरोयी
खिली कली से होंठ
फूलों सा
मुस्काते हैं

रेशम से मुलायम।
तेरे नाज़ुक हाथ
 थामते हैं जब
मेरी उँगली
सारी दुनिया
जैसे मुट्ठी में
आ जाती है

एक तुम ही
दे सकती हो
यह सुख
जहाँ की
सारी नियामतें
गोद में भरना
क्या होता है
आज जाना

मेरी लाडली
मिश्री की डली
तेरे पोलके पे
टाँकूँ सितारे
दे दूँ तुझे
दुनिया के सुख सारे
मेरी मन्नत तू
बनी जन्नत तू

मेरी परी
पंख फैला भरना उड़ान
छू लेना आसमान
सच में मेरी नन्ही जान
तुमने दिया माँ का सम्मान
तू मेरे ख़्वाबों की रानी
तूने लिखी नई कहानी
तुझको सिखलाऊंगी
खुद लिखना अपनी कहानी

लेखिका अनीता शर्मा की कई रचनाएं विभिन्न पत्रिकाओं मे प्रकाशित हो चुकी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *