uttrakhand naula Water culture and hydrology heritage ending
कला संस्कृति

खत्म हो रही जल संस्कृति और जल विज्ञान धरोहर

डॉ० हरीश चन्द्र अन्डोला  यह तो सर्वविदित है कि जल की मनुष्य की उत्पत्ति के समय से ही अपरिहार्य आवश्यकता रही है। क्योंकि जल का महत्व मानव जीवन के लिए वायु के समान ही है, भोजन से भी अधिक अनिवार्य आवश्यकता जल की है। मनुष्य ने अपने रहने के ठिकाने भी उन्हीं स्थानों पर बसाये […]