देश दुनिया न्यूज़

आज है World Earth Day पढ़िए हमारी Special Report

Earth Day is an annual event celebrated around the world on 22nd April to demonstrate support for environmental protection. This day was celebrated in 1970 at first, it now includes events coordinated globally by the Earth Day Network in more than 193 countries. We have brought a special report on this special occasion. we take a pledge to support and protect our mother land.

Report Ring Desk

विश्व पृथ्वी की शुरुआत कब और कैसे हुई, इसे क्यों मनाया जाता है, जानिए इस स्पेशल रिपोर्ट में।
आज 22 अप्रैल यानी विश्व पृथ्वी दिवस/ World Earth Day है। इस बार यह खास दिन बुधवार को पड़ रहा है। यह दिवस पूरे विश्व भर में पर्यावरण संरक्षण के रूप में मनाया जाता है। दुनिया के करीब 190 से अधिक देशों में पर्यावरण संरक्षण के लिए इस मौके पर तरह-तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।
क्या आपको पता है कि इस दिवस की शुरुआत कब और कैसे हुई। चलिए हम बताते हैं। वर्ल्ड अर्थ डे सबसे पहले अमेिरका में मनाया गया। पूरी दुनिया में 22 अप्रैल को अर्थ डे यानी कि पृथ्वी दिवस मनाया जाता है। इस विशेष दिन को मनाने का उद्देश्य विश्व के लोगों को यह स्मरण कराना होता है कि पृथ्वी और पर्यावरण हमारे लिए कितना अहम है, जो कि हमें जीवन प्रदान करते हैं। इसीलिए वर्ल्ड अर्थ डे के मौके पर पर्यावरण संरक्षण और पृथ्वी मां को बचाने का संकल्प लिया जाता है।
यहां बता दें कि अमेरिकी सीनेटर गेलार्ड नेल्सन द्वारा 22 अप्रैल 1970 में इस दिवस को पहली बार सेलिब्रेट किया गया था। बयाया जाता है कि 1969 में अमेरिका के कैलिफोर्निया के सांता बारबरा में तेल रिसाव/leakage के चलते बहुत बर्बादी हुई थी। इस घटना से गेलार्ड नेल्सन बेहद दुखी हुए, इसके बाद उन्होंने पर्यावरण को बचाने के लिए कुछ करने का संकल्प लिया।
गौरतलब है कि 22 जनवरी 1969 को समुद्र में तीन मिलियन गैलन से अधिक तेल लीक हुआ था।
इस रिसाव का समुद्री जीव-जंतुओं पर कितना असर पड़ा। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इस तेल लीकेज़ के कारण दस हज़ार से अधिक सीबर्ड/ seabirds, डॉल्फिन, सील और सी लॉयन्स की मौत हो गयी थी।
जैसा कि आप तस्वीरों के माध्यम से देख सकते हैं कि सी एनीमल्स पर तेल रिसाव का कितना असर पड़ा
इसके पश्चात गेलार्ड नेल्सन ने 22 अप्रैल को अर्थ डे के रूप में मनाने का फैसला किया। उनके आह्वान पर 22 अप्रैल 1970 को दो करोड़ से अधिक अमेरिकी नागरिकों ने वर्ल्ड अर्थ डे के फर्स्ट सेलिब्रेशन में शिरकत की।
नेल्सन द्वारा 22 अप्रैल को ही इस दिवस के रूप में चुने जाने के पीछे यह वजह रही कि अधिक से अधिक लोग इस मौके पर भाग ले सकें। उन्हें 19 से 25 अप्रैल का हफ्ता इसके लिए सबसे उपयुक्त लगा। तभी से हर साल 22 तारीख को विश्व पृथ्वी दिवस मनाया जाता है।
बताते हैं कि जुलियन कोनिग ने वर्ष 1969 में इस दिवस को अर्थ डे नाम दिया। इस दिन उनका बर्थडे भी मनाया जाता है।
Earth Day founder Gaylord Nelson came up with the idea for a national day to focus on the environment after Nelson, then a U.S. Senator from Wisconsin, witnessed the ravages of a massive oil spill in Santa Barbara, California, in 1969.
आज के इस विशेष दिवस पर पढ़ें कविता
हरी -हरी वह घास उगाती है, फसलों को लहलहाती है, फूलों में भरती रंग
पेड़ों को पाल पोस कर ऊंचा करती, पत्ते पत्ते में रहे जिन्दा हरापन, अपनी देह को खाद बनाती है, धरती इसी लिए माँ कहलाती है, पानी से तर हैं सब
नदियाँ, पोखर, झरने और समंदर, ज्वालामुखी हजारों फिर भी
सोते धरती के अन्दर, जैसा सूरज तपता आसमान में, धरती के भीतर भी दहकता है, गोद में लेकिन सबको साथ सुलाती है, धरती इसी लिए माँ कहलाती है .

आग पानी को सिखाती साथ रहना, हर बीज सीखता इस तरह उगना, एक हाथ फसलें उगा कर, सबको खिलाती है, दूसरे हाथ सृजन का,सह -अस्तित्व का, एकता का – पाठ पढ़ाती है धरती…इसीलिए मां कहलाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *