देश दुनिया न्यूज़

Arab world का पहला मंगलयान launch

संयुक्त अरब अमीरात यानी यूएई अमेरिका, रूस, यूरोपीय अंतरिक्ष ब्यूरो व इंडिया के बाद वर्ल्ड में मंगल सर्वेक्षण करने वाला पांचवां देश या संगठन बन गया है।

Report Ring Desk

खाड़ी के देश संयुक्त अरब अमीरात यानी यूएई(UAE) ने पहली बार मंगल मिशन(Mars orbiter mission) लांच किया है। यह समूचे अरब देशों का पहला मंगल मिशन भी है। रिपोर्ट्स के मुताबिक 19 जुलाई को देर रात 1 बजकर 58 मिनट पर यूएई के पहले मंगलयान को जापान की धरती से प्रक्षेपित किया गया। यह यान दक्षिण जापान के तनेगाशिमा स्पेस सेंटर से सफलता से छोड़ा गया।

 बताया जाता है कि यह मंगलयान 2021 में मंगल ग्रह की परिक्रमा करेगा और मंगल ग्रह के वातावरण का साइंटिफिक सर्वे करेगा। यह अरब देशों का पहला मंगल सर्वेक्षण यान है। पिछले सप्ताह खराब मौसम के चलते इस यान की लांचिंग स्थगित करनी पड़ी थी।

गौरतलब है कि यह संयुक्त अरब अमीरात का पहला मंगलयान है, जिसकी कुल लम्बाई 2.9 मीटर और चौड़ाई 2.37 मीटर है। इसमें कुल 1.5 टन ईंधन की क्षमता है, जिसका कुल आकार एक छोटी गाड़ी के बराबर है। लगभग सात महीने बाद साल 2021 की शुरूआत में यूएई की स्थापना की 50वीं बरसी के मौके पर यह मंगलयान मंगल ग्रह की कक्षा में पहुंचेगा और लगभग 687 दिन का सर्वेक्षण मिशन पूरा करेगा।

ध्यान रहे कि संयुक्त अरब अमीरात अमेरिका, रूस, यूरोपीय अंतरिक्ष ब्यूरो और इंडिया के बाद वर्ल्ड में मंगल सर्वेक्षण करने वाला पांचवां देश या संगठन बन गया है।

संयुक्त अरब अमीरात में अब तक स्पेस इंडस्ट्री का विकास नहीं हो सका है, इसकी वजह से यूएई ने अपने मंगल मिशन को अमेरिका और जापान के सहयोग से लांच किया है। जहां अमेरिका के साथ मिलकर मंगलयान तैयार हुआ, वहीं  रॉकेट वाहक और प्रक्षेपण स्थल के लिए जापान की मदद ली गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *