देश दुनिया न्यूज़

कोरोना वायरस से मधुमक्खियां भी परेशान…

चीन के स्छवान राज्य में 16 लाख मधुमक्खियां निकल पड़ी हैं फूलों से शहद यानी honey एकत्र करने के लिए 


Report Ring Desk

चीन में पिछले दो महीने तक चले कोरोना वायरस/ कोविड-19/ Coronavirus/ COVID-19 के कहर की वजह से तमाम उद्योग प्रभावित हुए। मधुमक्खी पालन इंडस्ट्री भी इस खतरनाक वायरस की चपेट में आ गयी थी। लेकिन धीरे-धीरे सामान्य होती स्थिति के बीच मधुमक्खी पालक यानी Beekeepers भी दोबारा से काम पर लौटने लगे हैं। वसंत यानी स्प्रिंग सीज़न के आगमन ने मधुमक्खी पालकों के चेहरों की मुस्कान लौटा दी है।
यहां बता दें कि हर साल स्प्रिंग के सीज़न में मधुमक्खी पालक/Beekeepers बहुत बिज़ी रहते हैं। यह ऐसा मौसम होता है जब ठिठुरन जा चुकी होती है और हर जगह फूल ही फूल खिलने लगते हैं। जाहिर सी बात है कि यह मधुमक्खी पालकों और मधुमक्खियों के लिए बेस्ट सीज़न होता है। लेकिन पिछले कुछ महीनों से कोरोना वायरस के खतरे के देखते हुए इस काम से जुड़े लोग बहुत परेशान थे। क्योंकि वे भी लॉकडाउन/lockdown के कारण अपने घरों में ही बंद थे। लेकिन अब मौसम बदलने और वायरस का असर लगभग खत्म होने के बाद इस उद्योग से जुड़े लोग बेहद खुश दिख रहे हैं।
बताते हैं कि मौसम/weather में गर्माहट आते ही मधुमक्खियां बहुत व्यस्त हो जाती हैं, वे एक जगह से दूसरी जगह जाने लगती हैं। साथ ही इसे उनके प्रजनन के लिए भी बहुत अच्छा समय माना जाता है।
वायरस के व्यापक असर को देखते हुए चीन सरकार ने मधुमक्खी पालन उद्योग की मदद की। इसी का नतीजा है कि अब यह उद्योग फिर से सामान्य होने की स्थिति में आ चुका है। चीन के स्छवान राज्य में 16 लाख मधुमक्खियां शहद एकत्र करने के लिए उत्तर पश्चिम दिशा की ओर निकल गयी हैं।
ये मधुमक्खियां जहां भी फूल खिल रहे हैं, उसी दिशा में बढ़ती जा रही हैं। क्योंकि अलग-अलग जगहों पर फूलों के खिलने का वक्त एक जैसा नहीं होता है। कहीं फूल कुछ समय पहले खिल जाते हैं, जबकि कुछ जगहों पर खिलने में और थोड़ा वक्त लग जाता है। यही कारण है कि मधुमक्खी पालक मधुमक्खियों के साथ लेते हुए शहद के स्रोतों का पीछा करते हैं।
स्छवान राज्य के लांगफंग गांव के एक मधुमक्खी पालक 110 बक्सों में बंद मधुमक्खियों को लेकर स्छवान से कानसु राज्य की तरफ चल पड़े हैं। उन्हीं की तरह कई अन्य पालक भी फूलों और शहद की तलाश में निकल गए हैं।
कोरोना वायरस के प्रभाव को देखते हुए चीन सरकार ने अपने नागरिकों को एक शहर से दूसरे शहर जाने या फिर दूसरे राज्य की सीमा में प्रवेश करने के लिए क्रॉस-रीज़न हेल्थ सर्टिफिकेट और हेल्थ कोड जारी किए हैं। सरकार की इस स्कीम का लाभ मधु पालन उद्योग से जुड़े लोग उठा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *