रोचक

एक टीचर ऐसा भी मचान पर चढ़कर पढ़ा रहे बच्चों को

Report ring desk

कोलकाता के एक इतिहास के शिक्षक सोशल मीडिया में चर्चा में हैं। इसकी वजह उनके पढ़ाने का अंदाज है। वह पश्चिम बंगाल के दो शैक्षणिक संस्थानों में इतिहास पढ़ाते हैं। लाॅकडाउन की घोषणा होने से पहले वह अपने गांव में थे। उनके गांव में नेटवर्क सही से काम नहीं कर रहा था। उन्होंने नीम के पेड़ पर मचान बनाया और मचान पर बैठकर क्लास लेने लगे। पढ़ाने के लिए नेटवर्क की समस्या का हल खोजने का उनका अंदाज लोगों को काफी पसंद आ रहा है। लोग उनके इस अंदाज की सराहना कर रहे हैं।

35 साल के सुब्रत पाती पश्चिम बंगाल के बांकुरा जिले के निवासी हैं। वह कोलकाता के दो शैक्षणिक संस्थानों में इतिहास पढ़ाते हैं। वह लाॅकडाउन मे गांव में फंसे थे और उन्हें ऑनलाइन क्लास भी लेनी थी। ऑनलाइन क्लास के लिए नेटवर्क परेशान कर रहा था। न्यूज एजेंसी पीटीआई के अनुसार उन्होंने नीम के पेड़ पर चढ़कर देखा तो फोन में नेटवर्क सही आ रहा था। गांव में दोस्तों की मदद से सुब्रत ने बांस की खपच्चियों और पुआल को रस्सी से बांधकर एक प्लेटफॉर्म बनाया और उसे घर के पास के एक नीम के पेड़ पर फंसाकर रख दिया।

अब सुब्रत रोज क्लास के टाइम पर मचान पर बैठते हैं और स्टूडेंट्स की ऑनलाइन क्लास लेते हैं। क्लास लंबी चलतीं हैं तो सुब्रत खाना-पानी भी अपने साथ पेड़ पर ही ले जाते हैं। वह चाहते तो नेटवर्क नहीं आने का बहाना बनाकर ऑनलाइन क्लास को टाल सकते थे। मगर उन्होंने जो मिसाल पेश की उसकी हर तरफ तारीफ हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *