न्यूज़

मौजूदा कोरोना काल तथा उसके बाद जन मानस के सामने अस्तित्व की चुनौतियां

By G D Pandey मौजूदा वैश्विक परिदृश्य इस आशय का बोध करा रहा है कि विश्व के अभी तक आविर्भूत समस्त  सामाजिक-आर्थिक व्यवस्थाओं के पटाक्षेप की परिस्थितियां परिपक्व हो चुकी हैं और एक नया वैश्विक परिदृश्य अपनी झलक दिखाने लगा है। वर्तमान समय को कोरोना काल कहने में कहीं कोई हिचक नहीं है। इस समय […]