न्यूज़

हल्द्वानी के सूबेदार कुपवाड़ा में शहीद, शोक की लहर

Report ring desk

हल्द्वानी। हल्द्वानी के अर्जुनपुर गोरापड़ाव निवासी सूबेदार युमना प्रसाद पनेरू देर रात कुपवाड़ा में शहीद हो गये। बताया जाता है कि बर्फ से ढकी चोटियों पर अपनी टीम को रेस्क्यू करते वक्त उनका पैर फिसल गया। पैर फिसलने से वह खाई में गिर गए और शहीद हो गए। सेना में उन्होंने कई मेडल भी मिले थे।

यमुना प्रसाद पनेरू 2001 में छह कुमाऊं में भर्ती हुए थे। उनका बचपन ओखलकांडा ब्लाक के ग्रामसभा पदमपुर मीडार के तोक गालपाधूरा में बीता। बीएससी प्रथम वर्ष की पढ़ाई के दौरान उनका चयन भारतीय सेना में हो गया था।

परिजनों ने वर्ष 2012 में यमुना परगांई द्वारा एवरेस्ट फतह की जानकारी भी दी। साथ ही उन्होंने नंदादेवी शिखर और छोटे कैलाश को भी छुआ था। माउंटेनिंग सिखाने के लिए वह कुछ समय दार्जिलिंग में भी रहे।

वर्ष 2013- 14 में वह भारतीय सेना की ओर से भूटान भी गए और वहां से आने के बाद जेसीओ का कमीशन निकालने के बाद हवलदार से सूबेदार पद पर नियुक्त हुए। 37 वर्ष की आयु में वह देश के लिए शहीद हो गए।

शहीद के परिवार में 07 साल का बेटा यश, 05 साल की बेटी साक्षी, पत्नी, मां महेश्वरी देवी, बड़े भाई चंद्र प्रकाश पनेरू, छोटे भाई भुवन और भाभी सहित भतीजे -भतीजी  हैं। शहीद का परिवार मूलरूप से ओखलकांडा के पदमपुर मीडार का निवासी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *