देश दुनिया न्यूज़

चीन में नार्मल हुई लाइफ़, चीनी डॉक्टर अब दूसरे देशों में दे रहे सेवाएं

लगभग दो महीने तक वायरस के खिलाफ चली जंग के बाद चीन में लाइफ नॉर्मल हो चुकी है। सड़कों पर वाहन भी चलने लगे हैं, साथ ही लोगों को बाज़ारों, पार्कों आदि में भी देखा जा सकता है। जिससे साफ पता चलता है कि चीन सरकार के तमाम विभागों व आम नागरिकों की मेहनत रंग ला चुकी है। इस बीच अपने देश में कोरोना वायरस को नियंत्रित करने के बाद चीनी डॉक्टर अब दूसरे देशों को अपने अनुभव बांट रहे हैं।

By Anil Azad pandey, Beijing

एक ओर दुनिया के तमाम देशों में कोरोना वायरस के चलते हाहाकार मचा हुआ है। वहीं लगभग दो महीने तक इस वायरस के चलते परेशानी उठा चुके चीनी नागरिक अब सामान्य जीवन बिता रहे हैं। चीन में वायरस के संक्रमण के नए मामले न के बराबर सामने आ रहे हैं। हालांकि विदेश से आने वाले लोगों पर चीन की नजर है, क्योंकि अन्य देशों में वायरस तेजी से फैल रहा है। लेकिन अब चीन के अधिकांश शहरों में सभी सार्वजनिक सुविधाएं चालू हो गयी हैं, साथ ही बाज़ार भी खुल चुके हैं। स्थिति को पूरी तरह सामान्य बनाने के लिए चीन सरकार के विभिन्न विभागों व लोगों ने कड़ी मेहनत की। इसके साथ ही चीन सरकार ने एक सप्ताह के भीतर दो अस्पतालों का निर्माण किया। जबकि कई अन्य मेकशिफ्ट हॉस्पिटल भी तैयार किए गए। हजारों डॉक्टरों ने वायरस के केंद्र वूहान जाकर वायरस से संक्रमित लोगों का इलाज किया। अब वे तमाम चिकित्साकर्मी अपने-अपने गंतव्य को वापस लौट गए हैं। चीन द्वारा उठाए गए व्यापक कदमों का नतीजा अब दिखने लगा है। हालांकि चीन अब भी सतर्क है, इसलिए सभी लोग मास्क पहनकर ही अपने घरों से बाहर निकल रहे हैं।

चीन में वायरस से संक्रमित मरीजों का इलाज करने के बाद चीन के कई डॉक्टर व विशेषज्ञ अब वैश्विक स्तर पर मदद करने में जुट गए हैं। चीनी डॉक्टर अपने देश के सफल अनुभव के आधार पर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए विदेशी चिकित्साकर्मियों को सुझाव दे रहे हैं। वहीं कई विशेषज्ञ दल इटली, ईरान, इराक, सर्बिया आदि देशों में पहुंचकर वहां स्थिति को संभालने में लगे हैं। चीन द्वारा ग्लोबल लेवल पर किए जा रहे प्रयासों की सराहना भी हो रही है।

यहां बता दें कि गत् 19 मार्च को चीन के जाने-माने हेल्थ एक्सपर्ट चोंग नानशान व ली लानछुन ने कोविड-19 वायरस को लेकर इंटरनेशनल एक्सचेंज कांफ्रेंस में चीन द्वारा इस महामारी के मुकाबले के लिए उठाए गए कदम व अनुभव शेयर किए। उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के मेडिकल कॉलेज के साथ भी अपने अनुभव बांटे।

इसके साथ ही चीन ने इस वायरस से निपटने के लिए 82 देशों, स्वास्थ्य संगठनों और अफ्रीकी संघ को राहत देने का ऐलान किया है। जैसा कि हम जानते हैं कि चीन ने इस खतरनाक वायरस को काबू में करने के लिए व्यापक उपाय किए। शुरुआती संक्रमण के लगभग दो महीने बाद चीन अब दूसरे देशों को मदद के लिए हाथ आगे बढ़ा रहा है। वैश्विक स्तर पर यह महामारी कोहराम मचा रही है। हर रोज़ हज़ारों की संख्या में लोग इस वायरस से संक्रमित हो रहे हैं। ऐसे में चीन का अनुभव भारत सहित कई देशों के लिए बेहद उपयोगी हो सकता है। वक्त की मांग यही है कि दुनिया को मिल-जुलकर इस महामारी से निपटने के लिए काम करना चाहिए।

The writer works with China Media group, has been living in China since 2009. He has also authored a book “Hello Cheen”.

  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *