देश दुनिया न्यूज़

वेंटिलेटर-भारत चीन से मंगवाने को तैयार, लेकिन चीन ने दिया यह जवाब

देश भर में कोरोना वायरस का खतरा लगातार बढ़ रहा है। ऐसे में मेडिकल उपकरणों की कमी के चलते इंडिया ने चीन से 10 हज़ार वेंटिलेटर खरीदने का फैसला किया है।
Report Ring Desk
दुनिया भर में कोरोना वायरस के कहर के बीच मेडिकल उपकरणों की कमी पड़ने लगी है। अमेरिका, इटली, स्पेन और फ्रांस सहित विश्व के तमाम देश इस परेशानी से जूझ रहे हैं। वहीं भारत में भी कोविड-19 के तेज़ी से बढ़ते संक्रमण के चलते चिकित्सा सामग्री की किल्लत महसूस की जा रही है। इनमें वेंटिलेटर, टेस्टिंग किट, पीपीई, मॉस्क आदि शामिल हैं। इसे देखते हुए भारत ने पड़ोसी देश चीन से मदद मांगी है।
चीन में दो महीने के लॉकडाउन के बाद अब स्थिति सामान्य हो रही है। वहीं चीन में उत्पादन का काम भी तेज़ी से शुरू हो गया है। चीनी कारखानों और कंपनियों में दिन-रात काम हो रहा है। यही वजह है कि विश्व के कई देश चीन से मेडिकल उपकरण खरीद रहे हैं। अब इंडिया ने चीन से लगभग 10 हज़ार वेंटिलेटर खरीदने का निर्णय लिया है। लेकिन चीन ने कहा है कि वह भारत को बेहद जरूरी वेंटिलेटरों की आपूर्ति करने के लिए तैयार है। लेकिन साथ ही कहा है कि महत्वपूर्ण आयातित उपकरणों की कमी का सामना कर रही चीनी कंपनियों के लिए व्यापक पैमाने पर उत्पादन करना एक बड़ी चुनौती बना हुआ है। चीन की मजबूरी समझी जा सकती है, क्योंकि अब समूची दुनिया चीन से मदद की आस लगाए हुए है, क्योंकि चीन को वर्ल्ड की फैक्ट्री भी कहा जाता है। लेकिन चीनी कंपनियों के लिए मेडिकल उपकरणों की भारी मांग को पूरा करना आसान नहीं हो रहा है।
गौरतलब है कि जब चीन में कोरोना वायरस का कहर चरम पर था तो भारत ने 15 टन मेडिकल सामग्री मदद स्वरूप पहुंचायी थी। इसके साथ ही भारत ने चीन में फंसे सैंकड़ों लोगों को भी तीन विमानों के जरिए निकाला था। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ छुनयिंग ने बुधवार को बीजिंग में कहा, हमें उम्मीद है कि भारत नागरिक भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में इस खतरनाक महामारी को हराने में कामयाब होंगे।
उन्होंने कहा कि हम भारत को अपना अनुभव और हर तरह की सहायता देने के लिए तैयार हैं। साथ ही चीन वेंटिलेटरों के उत्पादन में भी इंडिया को मदद देना चाहता है। लेकिन ऐसा करना बहुत मुश्किल होगा, क्योंकि विदेश से तमाम तरह के जरुरी उपकरणों का आयात नहीं हो पा रहा है। यहां बता दें कि एक वेंटिलेटर को बनाने में लगभग 1 हज़ार विभिन्न पार्ट्स का इस्तेमाल किया जाता है. जो कि यूरोप सहित दुनिया के कई हिस्सों में तैयार किए जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *