कला संस्कृति देश दुनिया

फिट रहना चाहते हैं तो कीजिए ये आसन….

पिछले कुछ दिनों से हम आपको योगासनों से रूबरू करवा रहे हैं। इसी कड़ी में इस बार आप जानेंगे, पेट कम करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण आसन। कोरोना वायरस के चलते आजकल कई संस्थान बंद हैं या लोगों को घरों से काम करने की सलाह दी जा रही है। ऐसे में मोटापा बढ़ने की आशंका रहती है। इन तीन उपयोगी आसनों को रोजाना 10 मिनट करने से आपका पेट तो कम होगा ही, साथ में पाचन तंत्र भी दुरुस्त रहेगा।

By Ashish Bahuguna, Beijing

पेट की अधिक चर्बी पूरे लुक को खराब कर सकती है। इसे हटाने के लिए योग आसन बहुत प्रभावी होते हैं।
अगर आप फिट रहने के साथ आकर्षक लुक चाहते हैं तो सबसे पहले अपनी बॉडी के वजन और साइज पर ध्‍यान देना होगा। अगर आपके पेट की चर्बी बढ़ी है तो यह आपका पूरा लुक खराब कर सकती है। अक्सर लोगों के साथ होता है कि उनके पेट पर बाकी शरीर की तुलना में अधिक चर्बी जम जाती है, जिससे पेट बाहर की तरफ लटका हुआ प्रतीत होता है। अगर आप भी अपने पेट के बढ़ते फैट से परेशान हैं और इसे कम करने के लिए किसी कारगर उपाय की तलाश में हैं तो ये योगासन आपके लिए बहुत मददगार हो सकते हैं।

1-उत्तानपादासन- Uttanpadasan

उत्तानपादासन – Uttanpadasan

इस आसन का पूरा लाभ उठाने के लिए इसे सही तरीके से करना जरूरी है। अब जानिए, कैसे किया जाता है यह आसन।

तरीका
* जमीन पर आराम से लेट जाएं और पांव फैला लें। पैरों के बीच दूरी नहीं होनी चाहिए।
* हाथ शरीर के निकट रखे रहने दें।
* सांस लेते हुए पैरों को मोड़े बगैर धीरे-धीरे 30 डिग्री पर उठाएं।
* धीरे धीरे सांस लें और फिर धीरे धीरे सांस छोड़ें और इसी मुद्रा में रहें।
* लंबी सांस छोड़ते हुए दोनों पैर नीचे लाएं।

2-सेतुबंधासन- Setu Bandhasana

सेतुबंधासन – Setu Bandhasana

इस आसन में शरीर सेतु (Bridge) के समान आकार में हो जाता है, इसलिए इसे सेतुबंधासन (Bridge Pose) कहा जाता है।
* शुरुआत में अपनी पीठ के बल लेट जाएं।
* अपने घुटनो को मोड़ लें। घुटनों और पैरों को एक सीध में रखते हुए, दोनों पैरों को एक दूसरे से 10-12 इंच दूर रखते हुए फैला लें।
* हाथों को शरीर के साथ रख लें, हथेलियां ज़मीन पर रहें।
* सांस लेते हुए, धीरे से अपनी पीठ के निचले, मध्य और फिर सबसे ऊपरी हिस्से को ज़मीन से उठाएं। धीरे से अपने कन्धों को अंदर की ओर लें। बिना ठोड़ी को हिलाये अपनी छाती को अपनी ठोड़ी के साथ लगाएं और अपने कन्धों, हाथों व पैरों को अपने वज़न का सहारा दें। शरीर के निचले हिस्से को इस दौरान स्थिर रखें। दोनों जंघा इस दौरान एक साथ रहेंगी।साथ ही अपने नितंबों को कस कर रखें।
* चाहें तो इस दौरान आप अपने हाथों को ज़मीन पर दबाते हुए शरीर के ऊपरी हिस्से को उठा सकते हैं। अपनी कमर को अपने हाथों द्वारा सहारा भी दे सकते हैं।

3-पवनमुक्तासन – Pawanmuktasan

पवनमुक्तासन – Pawanmuktasan

* अपनी पीठ के बल लेट जाएं और पैरों को साथ में कर लें और हाथों को शरीर के साथ जोड़ लें।
* गहरी लंबी सांस अंदर लें और सांस छोड़ते हुए अपने दाएं घुटने को अपनी छाती के पास ले कर आएं। जंघा को हाथों से पकड़ते हुए पेट पर दबाएं।
* दोबारा से एक लंबी गहरी सांस लें और छोड़ते हुए अपने सिर और छाती को ज़मीन से उठाएं। अपनी ठोड़ी को अपने दाएं घुटने से लगाएं।
* आसन में रहें और लंबी गहरी सांसें लेते रहें।
* ध्यान दें: सांस छोड़ते हुए अपने घुटने को हाथों से कस कर पकड़ लें। छाती पर दबाव बनाएं। सांस लेते हुए ढीला छोड़ दें।
* सांस छोड़ते हुए, वापस ज़मीन पर आ जाएं और विश्राम करें।
* यह पूरी प्रक्रिया बाएं पैर के साथ करें और फिर दोनों पैरों के साथ करें।

नोट- आसन हमेशा खाने के पहले या फिर खाने के 2-3 घंटे बाद ही करें। अगर आसन करते वक्त बेचैनी हो तो उसी वक्त आसन से वापिस आ जाएं और कुछ मिनट विश्राम करें। गर्भावस्था में या फिर मासिक धर्म (पीरियड) के दौरान ये आसान ना करें।
* आप इन तीनों आसनों का एक सेट बना सकते हैं ।हर सेट में एक आसन को तीन बार करें। इस तरह से आप 5 सेट तक कर सकते हैं।हर आसन में आप 30-40 सेकंड रुक सकते हैं।

मिलते हैं अगले सप्ताह, तीन और नये आसनों के साथ। तब तक के लिए करते रहिए आज बताए गए आसनों को।

लेखक जाने-माने योग शिक्षक हैं और मूल रूप से ऋषिकेश के रहने वाले हैं। इसके साथ ही बीजिंग में वी-योग एकेडमी भी चलाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *