देश दुनिया

कोरोना वायरस: क्यूबा दुनिया के लिए फरिश्ता बनकर आया सामने

रिपोर्ट रिंग डेस्क
फिदेल कास्त्रो का देश क्यूबा कोरोना पीड़ित दुनिया के लिए फरिश्ता बनकर सामने आया है। मदद के लिए क्यूबा का 52 सदस्यीय डाॅक्टरों का दल रविवार को इटली पहुंच गया। इस दल में इबोला पीड़ितों के इलाज के अनुभवी डाॅक्टर भी शामिल हैं। क्यूबा के ये डाॅक्टर सबसे बुरी तरह प्रभावित प्रांत लॉम्बार्डी में अपनी सेवाएं देंगे। क्यूबा टेलीविजन के अनुसार इस महामारी के इलाज के लिए विदेशों में भेजे गये डाॅक्टरों का यह छठा दल है। शनिवार को 144 डाॅक्टरों का एक अन्य दल जमैका के लिए भी भेजा गया था।

12 मार्च को हजार यात्रियों से भरा ब्रिटिश क्रूज समंदर में फंस गया था। बताया जाता है कि इस शिप में 50 यात्रियों में कोरोना वायरस के लक्षण थे। जिस देश बहमास के लिए यह क्रूज रवाना हुआ था उसने अपने बंदरगाह में इसे उतरने की इजाजत नहीं दी।
समंदर में हफ्तेभर भटकने के बाद क्यूबा ने न केवल इस जहाज को पनाह दी बल्कि यात्रियों के इलाज का जिम्मा भी लिया। इसमें फंसे यात्रियों को ब्रिटेन भी भिजवाया। चीन में जब कोरोना वायरस का खतरा गंभीर बना था उस समय क्यूबा ने चीन को दवााइयों की मदद की थी।
ऐसा नहीं है कि है कि क्यूबा में कोरोना वायरस का कोई मामला ही नहीं है और इसलिए वो घूम.घूमकर दूसरों की मदद कर रहा है। दुनिया के बाकी मुल्कों की तरह क्यूबा भी इस समय कोरोनावायरस से लड़ रहा है।

क्यूबा पहले भी दूसरे देशों में अपने डाॅक्टर भेजकर मदद करता रहा है। 2014 2016 तक अफ्रिकी देशों में जब इबोला का कहर बरपा था तब भी क्यूबा ने इन देशों में अपने डाॅक्टर भेजकर मिशाल कायम की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *