देश दुनिया

क्लाइमेट चेंज की चुनौती से कैसे निपट रहा है चीन

Report Ring News

आज दुनिया के विभिन्न क्षेत्रों में पर्यावरण संरक्षण पर ध्यान केंद्रित हो रहा है। क्योंकि जलवायु परिवर्तन सभी के लिए बड़ी चुनौती बन गयी है। इस संकट से मुकाबला करना विश्व के प्रत्येक देश के लिए काफी अहम है। चीन की बात करें तो उसके प्रयास के बिना इस वैश्विक चुनौती को हल नहीं किया जा सकता है। चीन को इस बात का पूरी तरह अंदाजा है, इसलिए वह इस दिशा में नेतृत्वकारी भूमिका निभा रहा है। जाहिर है चीन कार्बन उत्सर्जन में कमी लाने के लिए प्रतिबद्ध लगता है। हाल में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने संयुक्त राष्ट्र में भाषण देते हुए नयी कोयला चालित परियोजनाएं न शुरू करने की महत्वपूर्ण घोषणा की। इससे पता चलता है कि चीन अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी व्यापक भूमिका निभाना चाहता है।

ध्यान रहे कि चीनी राष्ट्रपति विभिन्न मंचों से जलवायु परिवर्तन के निपटारे के लिए आह्वान करते रहे हैं। इसके साथ ही योजनाएं तैयार करते समय भी चीन को अपनी ज़िम्मेदारी का पूरा अहसास रहता है।  

 गौरतलब है कि जलवायु परिवर्तन के कारण विश्व को सूखा, बाढ़ व हिमस्खलन आदि प्राकृतिक आपदाओं का सामना करना पड़ रहा है। पिछले दिनों कई देशों ने भारी बाढ़ का भी सामना किया, जिसमें जान-माल का काफी नुकसान हुआ। जबकि तूफान व मौसम संबंधी चुनौतियां भी बार-बार हमें चुनौती देती रहती हैं।  

इसके साथ ही वैज्ञानिकों ने चेतावनी द है कि अगले बीस वर्षों में पृथ्वी के तापमान में 1.5 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो सकती है। जिसका असर विभिन्न आपदाओं के रूप में दिख सकता है। 

इन चुनौतियों और मुसीबतों के मद्देनजर चीन ने साल 2030 से पहले कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन के स्तर को चरम पर पहुंचाने का लक्ष्य तय किया है। साथ ही चीन ने 2060 से पहले कार्बन तटस्थता का लक्ष्य हासिल करने पर ज़ोर दिया है।

 बता दें कि चीन में इस वैश्विक चुनौती से निपटने के लिए व्यापक प्रयास किए जा रहे हैं। जिसमें पारिस्थितिकी विकास के अलावा कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर में कमी लाना प्रमुख है। इसके साथ ही चीन में पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाली गैसों का उत्सर्जन करने वाली विभिन्न फैक्ट्रियों के खिलाफ सख्ती दिखायी गयी है। वहीं उन्हें नवीन ऊर्जा के इस्तेमाल के लिए भी प्रोत्साहित किया जा रहा है।

 

साभार-चाइना मीडिया ग्रुप

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *