देश दुनिया न्यूज़

 तबलीगी कार्यक्रमों के लिए अब नहीं मिलेगा टूरिस्ट वीज़ा, लगी रोक

दिल्ली के निज़ामुद्दीन मरकज में हुए धार्मिक जलसे में डेढ़ हज़ार से अधिक लोग हुए थे जमा, उनमें से कई कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इस बीच सरकार ने भविष्य में तबलीगी गतिविधियों के लिए भारत आने वाले लोगों को टूरिस्ट वीज़ा न देने का फरमान जारी किया है।
Report Ring Desk
कोरोना वायरस के कहर के बीच दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में धार्मिक जलसे में बड़ी संख्या में लोगों के हिस्सा लेने के बाद सरकार हरकत में आ गयी है। यहां मौजूद कई लोग वायरस संक्रमित पाए गए हैं, जबकि 6 लोगों की मौत भी हो चुकी है। निजामुद्दीन मरकज में धार्मिक आयोजन में न केवल देश भर के मुसलमान जमा हुए थे, बल्कि विदेशों से भी लोग यहां पहुंचे थे। इस घटना से सबक लेते हुए सरकार ने तबलीगी गतिविधियों के लिए इंडिया आने वालों को टूरिस्ट वीजा न देने का फैसला किया है।
पता चला है कि भारत में होने वाले तमाम धार्मिक आयोजनों में शिरकत करने के लिए विदेश से लोग पर्यटक वीज़ा पर आते हैं। जो कि वीजा नियमों का उल्लंघन है। यही वजह है कि सरकार भविष्य में इस तरह के मामलों पर सख्त रवैया अपनाएगी। सरकार के संबंधित विभाग के अधिकारियों का कहना है कि तबलीगी गतिविधियों के लिए अब टूरिस्ट वीज़ा जारी नहीं किया जाएगा।
ध्यान रहे कि इंडिया की विभिन्न मस्जिदों में 700 से अधिक विदेशी नागरिकों का पता लगा है, जिनमें से अधिकतर पर्यटक वीज़ा पर आए थे। गृह मंत्रालय के मुताबिक, इन तमाम लोगों ने वीजा नियमों का उल्लंघन किया है। ऐसे में इनके खिलाफ़ कार्रवाई की जाएगी। इतना ही नहीं, विदेश मंत्रालय ने कहा है कि, अगर कोई विदेशी तबलीगी गतिविधियों में हिस्सा लेना चाहता है तो उसे पर्यटक वीजा कतई नहीं दिया जाएगा।
इसके साथ ही होम मििनस्ट्री ने विदेश मंत्रालय से कहा है कि पर्यटक वीज़ा जारी करने से पहले इस बात की पड़ताल होनी चाहिए कि आवेदक इंडिया में किस जगह जाना चाहते हैं। वहीं उनके इंडिया में रुकने, वापसी टिकट, ट्रेवल खर्च आदि के बारे में विवरण मांगे जाने की जरूरत है।
कहना होगा कि भले ही सरकार अब सख्त रवैया अपना रही है, लेकिन वायरस के खतरे के बीच सैंकड़ों की संख्या में लोग देश के कई इलाकों में जा चुके हैं। जिनमें से कुछ वायरस संक्रमित भी पाए गए हैं। इस एक घटना से देश भर में कोरोना वायरस के मामलों में तेज इजाफा हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *