new year package
Corona virus
देश दुनिया न्यूज़

अफवाहः चीन में एक बाइक दुर्घटना से कैसे फैली लोगों को मारने की अफवाह

 फ़र्ज़ी वीडियो ने सोशल मीडिया पर फैलाया भ्रम, सीजीटीएन की टीम की पड़ताल में आया सच सामने, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

अनिल आज़ाद पांडेय, बीजिंग

एक ओर चीन कोरोना वायरस की महामारी के खिलाफ संघर्ष कर रहा है, वहीं सोशल मीडिया पर अफवाहों का बाज़ार भी गर्म है। ऐसी-ऐसी फर्जी ख़बरें या अफवाहें उड़ायी जा रही हैं, जिन पर भरोसा करना मुश्किल है। आजकल सोशल मीडिया पर तमाम जानकारियां व वीडियो बिना जांचे-परखे ही डाल दी जाती हैं। इस तरह के वीडियो समाज में नफरत का माहौल पैदा करते हैं।

इसी तरह का एक वीडियो जो पिछले कुछ समय से वायरल हो रहा है, जिसमें चीनी पुलिस द्वारा वायरस से प्रभावित लोगों को मारे जाने की बात की जा रही है। 21 सेकंड के इस वीडियो में रिवॉल्वर के साथ तीन पुलिसकर्मियों को एक कार से उतरकर आवासीय कॉलोनी में घुसते हुए दिखाया गया है। इसी वीडियो के अगले हिस्से में दिख रहा है कि कुछ लोग घायल होकर ज़मीन पर पड़े हैं और उनको प्राथमिक उपचार दिया जा रहा है। माना जा रहा है कि यह कार पूर्वी चीन के चच्यांग प्रांत के ईवू के फूथ्यान पुलिस की है। वीडियो में ऐसा लग रहा है जैसे कि स्थानीय पुलिस नागरिकों को गोली मार रही हो।

 

इस पूरे घटनाक्रम की सच्चाई को जानने के लिए 13 फरवरी को सीजीटीएन की टीम ईवू पुलिस मुख्यालय पहुंची और मामले की पड़ताल की। इसके साथ ही सीजीटीएन ने स्थानीय लोगों से भी इस बारे में जानने की कोशिश की। जिसमें पता चला कि उक्त वीडियो में दिख रहे पुलिसकर्मी वहीं के हैं, लेकिन वे लोगों को मारने नहीं बल्कि एक पागल कुत्ते से निपटने के लिए ऐसा कर रहे हैं। बताया जाता है कि स्थानीय लोगों ने अपने इलाके में एक पागल कुत्ते द्वारा आतंक मचाए जाने की शिकायत दर्ज की थी। जिस पर तीन पुलिसकर्मी वहां पहुंचे और कुत्ते से निपटने के लिए अभियान चलाया। दरअसल घटना एक फरवरी की है, जब ईवू में फूथ्यान पुलिस को एक पागल कुत्ते द्वारा लोगों को परेशान किए जाने की खबर मिली। घटनास्थल पर पहुंचकर पुलिस ने कुछ ही देर में कुत्ते को मार गिराया।

शायद किसी व्यक्ति ने इस घटनाक्रम को वीडियो में कैद कर लिया और फिर दूसरी घटनाओं वाली क्लिप को इसके साथ जोड़कर वीडियो सोशल मीडिया पर डाल दिया गया। पड़ताल में सामने आया कि वीडियो का एक हिस्सा जरूर उक्त पुलिसकर्मियों का है। लेकिन दूसरा हिस्सा जिसमें कुछ लोग घायल हुए हैँ और उन्हें उपचार दिया जा रहा है। वह 29 जनवरी का हूबेई प्रांत में एक मोटरसाइकिल दुर्घटना की फुटेज़ है। जिसमें एक 15 वर्षीय किशोर अपने चचेरे भाई के साथ कहीं जा रहा था, तभी दुर्घटना का शिकार हो गया। सूचना पाकर स्थानीय अस्पताल के डॉक्टर वहां पहुंचे और प्राथमिक उपचार दिया। वह किशोर दुर्घटना में बुरी तरह से जख्मी हो गया था।

इस तरह साबित होता है कि यह वीडियो पूरी तरह से फर्जी है, अब पुलिस वीडियो फुटेज़ को सोशल मीडिया पर डालने वाले व्यक्ति की तलाश में जुटी है।

लेखक चाइना मीडिया ग्रुप के वरिष्ठ पत्रकार हैं और पिछले दस वर्षों से चीन में हैं। चीन जाने से पहले भारत के प्रमुख राष्ट्रीय अखबारों में काम कर चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *