Big danger averted, now all normal in Ranikhet
न्यूज़

प्रशासन की मुस्तैदी से टला बड़ा खतरा, रानीखेत में अब सब सामान्य

by Digvijay Bisht

रानीखेत (अल्मोड़ा)। कोई भी नगर अपनी नयी पहचान से खुश होता है, पर इस दौर में कुछ पहचान ऐसी है जिससे कोई खुद को नहीं जोड़ना चाहेगा। पर्यटक नगरी, कुमांउ रेजीमेंट का मुख्यालय रानीखेत आज ऐसे ही दौर से गुजर रहा है। क्षेत्र में उसकी चर्चा कोरोना वायरस (कोविट-19) के पाॅजीटिव केस से हो रही है। गनीमत रही कि समय पर कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति का प्रशासन ने पता लगा लिया। नहीं तो कई और संक्रमण के मामले सामने आ सकते थे।

Big danger averted, now all normal in Ranikhet

एक जमाती के इस वायरस से ग्रसित होने की बात रविवार 5 अप्रैल को प्रधानमंत्री के देश को रोशन करने वाली रात को आई। इस उजाली रात के बाद रानीखेत और उसके आसपास से सटे इलाके में अजीब से अंधकार छा गया। हर शख्स की नजरों में फेर आने लगा। आपसी सौहार्द पर कुछ नासमझ लोगों की कारसतानी से ग्रहण सा लग गया। रानीखेत का कुरेशीयान मोहल्ला आज संवेदनशील हो गया। इसके साथ इससे लगे इलाके में भी सख्ती कर दी गई।

कोरोना पाॅजीटिव आए व्यक्ति का इलाज जिला मुख्यालय के बेस अस्पताल में चल रहा है। दिन बीतने के साथ रानीखेत के लोग अब धीरे-धीरे सामान्य हो रहे हैं। शासन-प्रशासन पूरी मुस्तैदी के साथ अपने काम में जुटा है। इस इलाके में अन्य लोगों के भी टेस्ट कराए गए तो नगेटीव आए। इससे अब लोगों का भय कम हो गया है।

7 अप्रैल को जिला अधिकारी नितिन भदौरिया ने भी रानीखेत का दौरा किया। उन्होंने बताया कि पाॅजीटिव आया जमाती सीधे तौर पर इलाके के 16 लोगों के सम्पर्क में आया था। सभी 16 लोगों के टेस्ट करा लिए हैं। सभी की रिर्पोट नगेटिव आई है। प्रशासन की पूूरी टीम इलाके पर नजर बनाए हुए है।
कैंट बोर्ड के उपाध्यक्ष मोहन नेगी ने बताया कि कैंट बोर्ड पूरी तरह सजग है। कर्मचारी प्रतिदिन सुदामापुरी, जामा मस्जिद काॅलोनी, और कुरेशीयान के इलाके में विशेष सफाई अभियान चला रहे हैं। हांलाकि कर्मचारी यहां जाने से थोड़ा सहमे से हैं। पर वो अपनी ड्यूटी  मन लगा के कर रहे हैं। उनका कहना है अभी देश संकट में है और हम देश की सेवा ही कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *