corona pandemic: food vendor and mechanics are selling vegetables
न्यूज़

काम पर कोरोना का ग्रहण, फास्टफूड संचालक और मिस्त्री बेच रहे सब्जी

by Mradul Manohar 

हल्द्वानी। कोरोना का प्रकोप बढ़ने के साथ साथ देशभर में लॉकडाउन भी 3 मई तक बढ़ा दिया गया है। लाॅकडाउन में बड़ा तबका बेरोजगार हुआ है। इसमें सबसे ज्यादा दिक्कतें रोजाना कमाकर खाने वालों को रही हैं। हालात के अनुरूप इनमें से कई लोगों ने अपने काम-धंधे बदल दिए हैं। खाने का ठेला लगाने वाले से लेकर मकान बनाने वाले मिस्त्री तक सब्जी बेच रहे हैं तो कुछ घर-घर किराने का सामान पहुंचा रहे हैं।

देश में चल रहे लाॅकडाउन में आवश्यक चीजों को छोड़कर सबकुछ बंद है। पैदा हुए इस हालात के अनुरूप लोग खुद को ढालने लगे हैं, इसमें फिट बैठने वाले काम खोजने लगे हैं। फास्टफूड संचालक, मिस्त्री औऱ चाय का ठेला लगाने वालों ने सब्जी की दुकान लगाना शुरू कर दिया है । साथ ही कई किराना का सामान भी घर-घर पहुंचाने और बेचने काम कर रहे हैं।

फास्टफूड बेचने वाले अनिल ने बताया कि पिछले 1 महीने से काम धंधा चौपट पड़ा है। इस कारण उन्होंने सब्जी का काम शुरू करने का फैसला किया। सब्जी बेचकर रोजाना 400 से 500 की आय हो जा रही है। चाय की दुकान चलाने वाले मुकेश ने बताया कि घर बैठे परिवार का खर्च चलाना बहुत मुश्किल हो रहा था। लॉकडाउन पीरियड भी बढ़ा दिया गया । इसके चलते उन्होंने चाय के ठेले पर ही सब्जी बेचने का मन बनाया। वह  स्थानीय लोगों को मंडी से ताजी सब्जी लाकर उपलब्ध करा रहे हैं।

वही मूर्ति बनाने वाले केशव सिंह ने बताया कि लॉकडाउन के चलते मूर्ति के खरीददार नहीं आ रहे हैं। घर पर रखी पुरानी बचत भी खत्म हो गई है। पेट पालने के लिए वह घर-घर जाकर किराना का सामान पहुंचा रहे हैं। इसी तरह मिस्त्री का काम करने वाले आलोक ने बताया कि कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन होने से सारा कामधंधा चौपट है। भवन निर्माण के साथ-साथ अन्य प्रकार के काम भी ठप हो गए हैं। काम कब शुरू होगा पता नहीं है, इसलिए वह बाइक पर ही सब्जी बेच रहे हैं। कहा कि परिवार चलाने के लिए कोई काम तो करना ही पड़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *