देश दुनिया न्यूज़

चीन व अमेरिका के संबंध बेहतर हों इसी में दुनिया का भला

Report ring team

चीन और अमेरिका के बीच पिछले लंबे समय से तनाव चल रहा है। विश्व की दो प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के बीच रिश्तों में खटास की वजह व्यापारिक व राजनीतिक रही है। अमेरिका की तरफ से बार-बार चीन पर दबाव बनाया जाता है, इसके जवाब में चीन भी कार्रवाई करता है। ऐसा चीनी नेताओं व विशेषज्ञों का आरोप है।

जैसा कि हम जानते हैं कि अमेरिका व चीन दोनों देशों में अलग-अलग तरह की व्यवस्था काम करती है। लेकिन विश्व के सबसे पावरफ़ुल देश अमेरिका के नेता चीन के अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप करते हैं। बात चाहे हांगकांग की हो, तिब्बत की या फिर शिन्च्यांग की। अमेरिका द्वारा इन मसलों पर बयान देकर रिश्तों को कमज़ोर किया जाता रहा है। अमेरिका के इस तरह बयानों और कदमों से चीन की नाराजगी बढ़ना लाज़मी है। इस तरह की बयानबाज़ी का व्यापारिक रिश्तों पर भी असर पड़ता है।

हालांकि दोनों तरफ से संबंधों को बेहतर बनाने की कोशिश भी होती है, लेकिन जैसे ही कोई संवेदनशील मुद्दा बीच में आता है तो बात वहीं अटक जाती है। हाल के दिनों में विश्व को परेशान कर रही कोविड-19 महामारी के दौरान भी ऐसा ही हुआ। अमेरिका में जैसे ही वायरस का प्रसार बढ़ने लगा, वहां के सर्वोच्च नेताओं नेताओं ने चीन पर दोष मढ़ना शुरू कर दिया। इसका सीधा द्विपक्षीय संबंधों पर पड़ रहा है।

यह भी बताना जरूरी है कि आज की वैश्विक दुनिया में लगभग सभी राष्ट्र एक दूसरे पर किसी न किसी चीज़ के लिए निर्भर हैं। ऐसे में उनको कभी न कभी एक मंच पर आना ही पड़ेगा। विश्व का कारखाना बन चुके चीन को दरकिनार करना आसान नहीं है। यह बात अमेरिका भी जानता है, लेकिन वह अपनी श्रेष्ठता साबित करने आदि के चलते बार-बार चीन को घेरता है।

इस बीच एक अच्छी पहल हुई है, जिसमें चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने चीन-अमेरिका संबंधों को पटरी पर लाने के लिए कुछ सुझाव पेश किए हैं। जिसमें कहा गया है कि इन दोनों देशों को वार्ता के तमाम तरीकों को चालू करना होगा।

इसके साथ ही चीन की ओर से यह भी सुझाव दिया गया है कि वैश्विक मुद्दों पर चीन व अमेरिका को सहयोग की सूची स्पष्ट करनी चाहिए। ताकि यह पता चल सके कि दोनों के मध्य किन-किन क्षेत्रों में बेहतर समन्वय हो सकता है।

इससे जाहिर होता है कि चीन अमेरिका के साथ अपने संबंधों को सुधारने के लिए गंभीर है। आज के इस खुले विश्व में अमेरिका और चीन को अपने संबंधों को बेहतर बनाना ही होगा, इसी में दोनों और पूरी दुनिया का हित है।

साभार चाइना मीडिया ग्रुप, अनिल पांडेय 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *