कला संस्कृति

मेरी कामयाबी के पीछे ‘मॉं’ का हाथ- बाबला कथूरिया

Report ring desk नई दिल्ली।  प्रसिद्ध टीवी स्टार व इंटरेनशनल फैशन कोरियाग्राफर बाबला कथूरिया का कहना है कि अगर इस टीवी व फैशन इंडस्ट्री में मेरा नाम है तो सिर्फ मेरी मां की वजह से है। अपनी मां उर्मिला कथूरिया के जन्मदिन पर उन्होंने कहा कि 1995 में वे मां के सपोर्ट से वे मुंबई […]

कला संस्कृति

विरुड़ पंचमी के साथ ही गौरा-महेश के प्रतीक सातूं-आठूं पर्व का शुभारंभ

पंचमी के दिन ही पड़ रही है षष्टी Report ring desk अल्मोडा। कुमाऊं क्षेत्र मनाए जाने वाले सातूं-आठूं का पर्व आज विरुड़ पंचमी के साथ शुरू हो गया है। इस साल सातूं-आठूं के विरुड़ घर पर नहीं रह पाएंगे। यह अद्भुत संयोग सात साल बाद पड़ रहा है। इसका कारण विरुड़ पंचमी 23 अगस्त के […]

कला संस्कृति

अब प्रांजल के हरियाणवीं सांग ‘रामझोल’ ने मचाई धूम

 सिंगल स्‍क्रीन पर चार्मिंग लग रही है प्रांजल फरीदाबाद । 4एस इंटरनेशनल कंपनी की प्रोड्क्शन इकाई हुकुम का इक्का ने एक और हरियाणवीं गाना ‘रामझोल’ को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर रिलीज किया गया। निर्देशक साहिल संधु द्वारा निर्देशित इस गाने में हरियाणवीं सिंगर सोमवीर कथुरवाल ने अपनी आवाज दी है। फरीदाबाद की प्रांजल दहिया ने इस […]

कला संस्कृति

रानीखेत के डोल और हमारा सरगम क्लब

By Vidhi Pandey कृष्ण जन्माष्टमी पर सरगम क्लब की याद आ गई। इस क्लब में मैं कई बार कृष्ण बनी तो मेरी बहन रिंकी राधा बनती थी। राधा कृष्ण बनने को लेकर हमउम्र के बच्चों से झगड़ा भी होता था। आस पड़ोस के सारे बच्चे कान्हा और गोपियों की ड्रेस पहनकर डोल (कृष्ण जन्मोत्सव) में […]

कला संस्कृति

Corona Pandemic: न मेला  (fair) न रेला, कौतिकार से लेकर दुकानदार सब मायूस

मेले, त्यौहार और धार्मिक उत्सव कुमाऊँ के जन-जीवन  के अभिन्न हिस्से हैं। ये  पूरे वर्ष भर  विभिन्न स्थानों और समय पर मनाए जाते हैं। इन में प्रमुख हैं- नंदा देवी (Nandadevi )का मेला  जो कि सितंबर माह में मुख्य रूप से अल्मोड़ा शहर में आयोजित होता है । इसके अलावा यह नैनीताल में भी आयोजित […]

कला संस्कृति

गुड़ाई और धान रोपाई से गुम हो गई हुड़के की थाप और हुड़किया बौल ( hurkiya baul )

By Diwan karki अल्मोड़ा। मानसून के आगमन के साथ ही पहाड़ी क्षेत्रों में खरीफ की फसल के लिए कृषि कार्य जोर पकड़ने लगा है। पहाड़ी क्षेत्रों में इन दिनों धान की रोपाई के साथ ही मडुवा, मादिरा की गुड़ाई का कार्य जोरों पर चल रहा है। इसके साथ ही खरीफ की फसल में बोई जाने […]

कला संस्कृति देश दुनिया

तिब्बत की सुंदरता के कहने ही क्या…

मनुष्य को प्रकृति ने कितने बड़े उपहार दिए हैं, हमारे दिलों में प्रकृति मां या मातृभूमि के लिए उतना बड़ा धन्यवाद होना चाहिए.. By Pro. Navin Lohani, Delhi …………………………………… मुझे पिछले साल तिब्बत यात्रा के दौरान एक अवसर मिला जब एक कमरे की छत पर लगाई जाने वाली सामग्री को बराबर करते और गाते हुए […]

कला संस्कृति

घर-घर इसलिए आता है श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र

By Aashish Pandey हल्द्वानी। उत्तराखंड अपनी खूबसूरती और तीज त्यौहारों के लिए जाना जाता है। गौर करें तो पहाड़ में हर महीने कोई न कोई त्यौहार मनाया जाता है। आज गंगा दशहरा है। गंगा दशहरा देशभर में मनाया जाता है। इस दिन गंगा को जल अर्पण किया जाता है और सुख समृद्धि की कामना की […]

कला संस्कृति

इसलिए किया जाता है वट सावित्री व्रत, जानिए पौराणिक कथा

By Aashish Pandey, Haldwani हिन्दू परंपरा में स्त्रियां अपने पति की दीर्घायु और सुखद वैवाहिक जीवन के लिए तमाम व्रत का पालन करती हैं। वट सावित्री व्रत भी सौभाग्य प्राप्ति के लिए एक बड़ा व्रत माना जाता है। व्रत के दिन महिलाएं अपने सुहाग के लिए व्रत रखती हैं, यह व्रत ज्येष्ठ  मास की अमावस्या […]

कला संस्कृति

तेरे जाने के बाद…

By Harish जिंदगी अधूरी सी थी तेरे आने से पहले, ज़िंदगी पूरी हुई तेरे आने के बाद, ज़िंदगी फिर से अधूरी हो गई तेरे जाने के बाद,, मैं अकेला खुश था तेरे आने से पहले, मैं खुशनसीब हो गया तेरे आने के बाद, मैं मुस्कुराना भूल सा गया तेरे जाने के बाद,, मुझमें बहुत कमियाँ […]