यूथ

नैनीताल में इस जगह लगेगी एशिया की सबसे बड़ी लिक्विड मिरर ( liquid mirror) दूरबीन (telescope)

By Harish Sanwal

नैनीताल। जल्द ही सरोवर नगरी नैनीताल के नाम बड़ी उपलब्धि जुड़ने जा रही है। मुक्तेश्वर के देवस्थल में एशिया की सबसे बड़ी 4 मीटर इंटरनेशनल लिक्विड मिरर टेलीस्कोप (International liquid mirror telescope)  (आईएलएमटी ) लग रही है। करीब दस करोड़ की लागत से स्थापित हो रही इस दूरबीन का काम अंतिम चरण में है।

बेल्गो-इंडियन नेटवर्क फॉर एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स प्रोजेक्ट (  Belgo-Indian Network for Astronomy and Astrophysics Project) के तहत 2012 में आईएलएमटी का प्रोजेक्ट तैयार किया गया था। इसमें भारत, बेल्जियम तथा कनाडा संयुक्त भागीदार है। दूरबीन स्थापित करने के लिए नैनीताल स्थित आर्यभट्ट प्रेक्षण विज्ञान एवं शोध संस्थान (एरीज) के अधीन देवस्थल को चुना गया था। प्रोजेक्ट से जुड़े वैज्ञानिकों का दावा है कि अक्तूबर में यह शुरू हो जाएगी। तीन देशों के सहयोग से बन रहे इस प्रोजेक्ट में करीब दस करोड़ लागत का अनुमान है। इससे पहले भारत ने बेल्जियम की मदद से एशिया की सबसे बड़ी 3. 6 मीटर प्रकाशीय दूरबीन भी यहां स्थापित की है।

liquid mirror 1

ब्रह्मांड को और करीब से जानने का मौका मिलेगा

यह दूरबीन सीमित आकाशीय क्षेत्र में लंबे अध्ययन के लिए प्रयोग होती है। दुनिया में फिलहाल यह अभी चिली और कनाडा के पास ही है। लेंस में मरकरी इस्तेमाल होने से यह दर्पण की तर्ज पर काम करती है। इससे टकराकर लौटने वाले प्रकाश को कैमरे में कैद कर अध्ययन किया जाता है, इसलिए इसे लिक्विड मिरर दूरबीन कहा जाता है। इससे ब्रह्मांड को और करीब से जानने का मौका मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *