Uncategorized

पालम एयरपोर्ट पहुंचे सीडीएस जनरल बिपिन रावत समेत सभी 13 पार्थिव शरीर

देशभर में छाई रही शोक की लहर

Report ring Desk

नई दिल्ली। देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत का बुधवार को तमिलनाडु के कुन्नूर में हेलिकॉप्टर हादसे में निधन हो गया था। इस हादसे में उनकी धर्मपत्नी मधुलिका समेत कुल 13 लोग अपनी जान गंवा बैठे थे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में हादसे की जानकारी देते हुए सीडीएस और हादसे में मारे गए सभी लोगों को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने भी हादसे में जान गंवाने वाले सभी लोगों को श्रद्धांजलि दी।

गुरुवार शाम को सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी धर्मपत्नी मधुलिका रावत समेत 13 पार्थिव शरीर तमिलनाडु के कुन्नूर से दिल्ली के पालम एयरपोर्ट लाए गए। वायुसेना के विशेष विमान से इनके पाॢर्थव शरीर दिल्ली लाए गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल समेत कई गणमान्य लोग श्रद्धांजलि देने पहुंचे।

रक्षामंत्री ने लोकसभा में दी हादसे की जानकारी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हेलिकॉप्टर हादसे की पूरी जानकारी लोकसभा में दी है। उन्होंने बताया कि एमआइ-17 हेलिकॉप्टर ने सुबह 11:48 पर सुलूर से उड़ान भरी। इसे 12:15 पर वेलिंगटन में लैंड करना था, लेकिन 12:08 बजे पर एयर ट्रैफिक कंट्रोल से संपर्क टूट गया। इस दौरान लोगों ने आवाज सुनी तो मौके पर पहुंचे और तुरंत ही रेस्क्यू शुरू किया।

पालम एयरबेस पहुंचकर प्रधानमंत्री ने दी श्रद्धांजलि

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने पालम एयरबेस पहुंचकर सैन्य हेलीकाप्टर दुर्घटना में दिवंगत सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने सीडीएस जनरल बिपिन रावत और अन्य सशस्त्र बलों के जवानों के परिवारों से मुलाकात भी की।

सैन्य सम्मान के साथ शुक्रवार को होगा अंतिम संस्कार

शुक्रवार को सीडीएस बिपिन रावत के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार पूरे सैन्य सम्मान के साथ किया जाएगा। इससे पहले पार्थिव शरीर आम लोगों के अंतिम दर्शन के लिए सीडीएस रावत के आवास पर रखा जाएगा। इस दौरान सैन्य कर्मी भी उनके अंतिम दर्शन कर सकेंगे। सीडीएस बिपिन रावत के आवास पर सुबह 11 बजे से आम लोग सीडीएस जनरल बिपिन रावत को श्रद्धांजलि दे सकेंगे। इसके बाद सैन्यकर्मी साढ़े 12 बजे से तकरीबन डेढ़ बजे तक सीडीएस रावत के अंतिम दर्शन कर पाएंगे।

देश भर के लोगों ने नम आंखों के साथ दी श्रद्धांजलि

हमने अपना हीरो खो दिया….. यकीन कर पाना बेहद मुश्किल है। सीडीएस जनरल बिपिन रावत के इस दुनिया में नहीं होने की खबर से हर कोई स्तब्ध है। रावत को अपना हीरो मानने वाले युवा भी उनके इस तरह जाने की खबर से बहुत दुखी हैं। गुरुवार को युवाओं ने सीडीएस जनरल बिपिन रावत को कैंडल जलाकर श्रद्धांजलि दी। इस दौरान भावुक युवाओं ने कहा कि वह हमेशा प्रेरणास्रोत रहेंगे। सोशियल मीडिया के माध्यम से भी देश के लोगों ने सीडीएस बिपिन रावत को अपनी श्रद्धांजलि दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *