देश दुनिया न्यूज़

 कोरोनाः ट्रेनों के 20 हज़ार कोच तब्दील होंगे क्वारंटीन वार्ड में

रेलवे बोर्ड ने अपनी ज़ोनल यूनिट्स को कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज़ों के इलाज़ के लिए ट्रेनों को तैयार रखने के निर्देश दिए हैं। इसके तहत ट्रेनों के 20 हज़ार डिब्बों को क्वारंटीन और आइसोलेशन वार्ड के तौर पर तैयार रखने को कहा गया है।
 
Report Ring Desk
 
देश भर में कोरोना वायरस के खिलाफ़ जारी लड़ाई में हर क्षेत्र अपनी तरफ से मदद के लिए हाथ आगे बढ़ा रहा है। इसी कड़ी में भारत का रेल नेटवर्क भी तैयारी में जुट गया है। बताया जा रहा है कि रेलवे बोर्ड ने अपनी ज़ोनल यूनिट्स को कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज़ों के इलाज़ के लिए ट्रेनों को तैयार रखने के निर्देश दिए हैं। इसके तहत ट्रेनों के 20 हज़ार डिब्बों को क्वारंटीन और आइसोलेशन वार्ड के तौर पर तैयार रखने को कहा गया है। देश में जिस तेज़ी से कोरोना वायरस के मरीज़ों की संख्या बढ़ रही है, उसे देखते हुए यह कदम उठाया गया है।
 
रेलवे बोर्ड ने जोनल रेलवे के महाप्रबंधकों को लिखे पत्र में कहा है कि शुरुआत में लगभग 5 हज़ार को आइसोलेशन वार्ड के तौर पर इस्तेमाल करने की जरूरत पड़ सकती है। कहा गया है कि इसके लिए अच्छी से तैयारी कर ली जाय, ताकि कभी भी इन्हें वार्ड के तौर पर प्रयोग  में लाया जा सके। वहीं 25 मार्च को हुई इस बाबत हुई बैठक में रेलवे बोर्ड ने ट्रेनों के कोचों को क्वांरटीन और आइसोलेशन वार्ड्स के रूप में काम में लाए जाने की बात कही थी। बोर्ड ने यह फैसला स्वास्थ्य मंत्रालय और संबंधित हेल्थ एजेंसियों की सलाह के बाद लिया है। ताकि अस्पतालों की कमी होने की स्थिति में मरीज़ों का इलाज किया जा सके।
 
माना जा रहा है कि इंडियन रेलवे को करीब 20 हज़ार डिब्बों की आवश्यकता होगी, जिनमें शुरुआत में पांच हज़ार कोचों का इस्तेमाल किया जा सकता है। रेलवे बोर्ड का कहना है कि पांच ज़ोनल रेलवे कोच क्वांरटीन वार्ड के लिए खांका तैयार कर चुके हैं।
कहा जा सकता है कि कोरोना वायरस के खिलाफ अभियान में रेलवे बड़ी भूमिका निभा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *